Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी

केबल TV के नए नियम : चैनल चुनने की आजादी,जानें कैसे…

0

TRAI ने केबल टीवी यूज़र्स के लिए नए नियम जारी किये हैं। आपको बता दें कि इस DTH रेग्युलेशन के मुताबिक यूज़र्स को उसी चैनल देखने के पैसे देने होंगे जो वह देखते हैं। अब उन्हें किसी भी ऐसे चैनल के लिए भुगतान नहीं करना पड़ेगा जिन्हें वो नहीं देखते हैं या उनके द्वारा उस चैनल को सेलेक्ट नहीं किया गया है। इसके साथ ही हर चैनल के लिए फेयर प्राइसिंग मॉडल्स को भी लागू किया जाएगा। आपको बता दें कि Cable TV का नया नियम अगले महीने यानी 1 फरवरी से लागू हो जाएगा।

ट्राई ने यूज़र्स को अपना पसंदीदा चैनल चुनने के लिए 31 जनवरी का डेडलाइन दिया है। ऐसे में अगर आपको यह नहीं समझ आ रहा है कि आप किस तरह सस्ते और बेस्ट चैनल्स का चुनाव कर सकते हैं, तो आज हम आपको इसका समाधान बताएँगे। आपको हम बताने जा रहे हैं कि चुनाव के दौरान किन बातों का ध्यान रखना चाहिए और आपके लिए क्या ज़रूरी है।

चैनल का सिलेक्शन करने से पहले बेस पैक लेना हर यूज़र के लिए जरूरी होता है। इस बेस पैक में 100 नॉन-एचडी फ्री-टू-एयर चैनल्स फ्री में मिलेंगे। आपको बता दें कि इस बेस पैक को आप अधिकतम 130 रुपये में ले सकते हैं। साथ ही आपको टैक्स अलग से देना होगा।बेस पैक के अलावा आप अपनी पसंद के “पेड बुके चैनल्स” का चुनाव कर सकते हैं। इन सभी बुके पेड चैनल्स के लिए इंडिविजुअल मंथली किराया तय किया गया है।

अगर आप इन बुके चैनल्स को कॉम्बो में सब्सक्राइब करते हैं तो आपको डिस्काउंट भी दिया जायेगा। ये बुके चैनल्स भाषा और क्षेत्र के मुताबिक चुनें जा सकते हैं। आपको बता दें कि इन बुके चैनल्स को आप बेस पैक के साथ जोड़ सकते हैं। ख़ास बात यह है कि एक साथ 9 बुके चैनल्स को सब्सक्राइब करना आपके लिए फायदेमंद होगा क्योंकि यह किसी अकेले एक चैनल को सब्सक्राइब करने से सस्ता है।

अब चुनें अपना चैनल

बेस पैक या बुके पैक में अपनी पसंद का चैनल सेलेक्ट करना ज़रूरी है। आप अपने मंथली बजट के मुताबिक SD या HD चैनल ले सकते हैं। आपको बता दें कि कई ब्रॉडकास्टर्स के 535 Free to air चैनल्स और 330 paid channels रजिस्टर्ड हैं। ऐसे में आप इन चैनल्स के चुनाव से पहले यह तय कर लें कि आप कौन सा चैनल देखना चाहते हैं और उसके बाद आपके मंथली बजट में फिट होने वाले चैनल को चुनें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.