Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी

घर में लगाएं हनुमान जी की ये तस्वीर, बन जाएंगे सभी बिगड़े काम और मिलेगा आपार धन

0

घर में लगाएं हनुमान जी की ये तस्वीर :-भारत देश देवी देवताओं और मान्यताओं से जुदा हुआ देश है. यहाँ हर धर्म के लोग एकजुट होकर रहते हैं और त्यौहार को मिल कर धूमधाम से मनाते हैं. वहीँ बात अगर हनुमान जी की करें तो इन्हें बजरंगबली के नम से भी जाना जाता है. हनुमान जी भगवान राम के सच्चे भक्त माने जाते हैं. जब रावण ने सीता हरण किया था तब हनुमान जी ही राम जी के साथ खड़े हुए थे और सीता माँ को वापिस लाने में उनकी सहायता की थी. आज हम आपको भगवान हनुमान के पंचमुखी अवतार के बारे में विशेष बातें बताने जा रहे हैं जिनसे शायद आप भी वाकिफ नहीं होंगे.

8वीं 10वीं 12वीं पास के लिए इन पदों पर निकली है जबरदस्त भर्ती, प्रति महीना वेतन होगा 30000 से भी ज्यादा

बेरोजगारों के लिए विभिन्न पदों पर निकली है जबरदस्त भारती आज ही करें आवेदन

हनुमान जी का पांच मुखी विराट रूप धरती की पांच दिशाओं का प्रतिनिधित्व करता है. उनके इन सभी रूपों में उनका एक मुख, त्रिनेत्र और दो बाजू हैं. इन रूपों को शास्त्रों में नरसिंह अवतार, गरुड अवतार, अश्व अवतार, वानर अवतार और वराह अवतार के नाम से उल्लेख किया गया है. हनुमान जी का जो रूप पूर्व दिशा की और संकेत देता है उसे हम वानर रूप के नाम से जानते हैं जोकि सैंकड़ों वैभव के समान चमक रखता है. उनके इस मुख का पूजन करने से शत्रुओं पर जीत हासिल की जा सकती है.

Loading...

मान्यता है कि हनुमान जी का हर रूप एक ख़ास मकसद का संकेत देता है ऐसे में यदि अपने घर के मुख्य द्वार पर उनके पंचमुखी अवतार की तस्वीर लगाई जाए तो घर में चल रही हर तरह की परेशानियों का अंत हो जाएगा और घर में नई खुशियों का वास होगा. पुराणों के अनुसार हनुमान जी देवों में देव हैं उनके अलावा दुनिया में शायद ही कोई और बलशाली होगा. बता दें कि बजरंगबली ने अपने पंचमुखी अवतार में रावण के भाई अहिरावण का वध किया था.

हनुमान जी के पांच मुख वाले रूप उर्जा के प्रतीक माने जाते हैं. उनका जो रूप पश्चिम दिशा की ओर इशारा करता है, उसे हम गरुड रूप से जानते हैं. यह रूप भक्तिप्रद, संकट और बाधा निवारक माना गया है. गरुड़ की तरह हनुमान जी भी सदैव अमर माने जाते हैं.

उनके इस रूप से हर तरह की परेशानियों का नाश हो जाता है. वहीँ उनका उत्तर दिशा वाला मुख वराह रूप को दर्शाता है. उनके इस रूप से प्रसिद्धि, शक्ति और लंबी आयु मिलती है. उनके चौथे रूप यानि नरसिंह रूप से हर मुश्किल दूर हो जाती है और भक्तों के तनाव और डर का भी खत्म हो जाता है. उनका पांचवा अश्व रूप घर में रखने से घर में सुख समृद्धि बनी रहती है और साथ ही भक्तों की हर प्रकार इच्छाएं पूर्ण हो जाती हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.