11

उन्होंने कहा कि उनकी जिओ ने घरेलू तकनीक के जरिए 5जी सॉल्यूशन विकसित कर लिया है। इसके साथ अंबानी ने यह भी घोषणा की कि वह पूरी दुनिया को 5जी सॉल्यूशन भी बेचेंगे। बताते चलें कि जिओ का यह एलान हुआवे के लिए बड़ा झटका माना जा सकता है। क्योंकि अभी तक 5जी तकनीक के लिए दुनिया के अधिकत्तर देश चीन के हुवावे पर ही निर्भर थी। वहीं हुवावे पर यह आरोप भी लगते रहे हैं कि वह जासूसी करती है। इसके चलते दुनिया के अधिकत्तर देश हुवावे के साथ काम करना नहीं चाहते।

अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देश भी हुवावे के साथ काम करने से पीछे हट रहे हैं। ज्ञात हो कि अभी हाल में ब्रिटेन ने एलान किया था कि वह वर्ष 2027 तक अपने देश के 5जी नेटवर्क से हुवावे के सभी उपकरणों को हटा देगा। बता दें कि अमेरिका ने ब्रिटेन के हुवावेई पर भविष्य में 5जी नेटवर्क में शामिल होने पर रोक लगाने की योजना का स्वागत भी किया है। वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी साफ किया है कि दुनिया के देशों को इस मुद्दे पर अमेरिका और चीन में से किसी एक को चुनना होगा।

गौरतलब है कि अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि इस फैसले के साथ ब्रिटेन भी उन देशों की सूची में शामिल हो गया है जिन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ऊंचे जोखिम और विश्वास की कमी वाली इकाइयों को बैन करने का मन बनाया है। अमेरिका ने स्पष्ट किया है कि वह एक सुरक्षित और गतिशील 5जी नेटवर्क के लिए ब्रिटेन के साथ काम करता रहेगा। यह पूरे अटलांटिक क्षेत्र की सुरक्षा और समृद्धि के लिए जरूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here