कभी-कभी ऐसा देखने को मिलता है कि किसी चीज की कमी ना होने के बावजूद शादी विवाह में देरी होने लगती है। कई बार मनचाहा जीवनसाथी ना मिलने की वजह से शादी विवाह में देरी होती है, वहीं कई बार कुछ अन्य कारण उत्पन्न हो जाते हैं जो शादी विवाह में अड़चन डालने लगते हैं। ज्योतिषी शास्त्र के अनुसार शादी विवाह में आने वाली इन अड़चनों के पीछे कई कारक हो सकते हैं। अगर आपके साथ भी इस तरह की समस्या उत्पन्न हो रही है, और लाख कोशिश करने के बावजूद भी शादी विवाह में दिक्कतें उत्पन्न हो रही है.

इस पोस्ट में हम ज्योतिषी शास्त्र में बताए गए कुछ ऐसे उपाय लेकर आए हैं, जिनकी मदद से शादी विवाह में उत्पन्न हो रही बाधाओं को दूर किया जा सकता है। आइए जानते हैं वह उपाय कौन से हैं

● यदि कोई लड़का को लड़की मांगलिक है जिसकी वजह से उसकी शादी में देरी हो रही है, तो ऐसी स्थिति में अपने घर को लाल अथवा गुलाबी रंग से पेंट करवाएं। ऐसा करने से मंगल दोष खत्म हो जाता है, और शादी में हो रही देरी से मुक्ति मिलती है।

● कमरे की दिशा का भी लड़के को लड़की की शादी पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। कुंवारे लड़के के कमरे की दिशा उत्तर-पश्चिम होना सर्वोत्तम माना जाता है।

● शादी में हो रही देरी से छुटकारा पाने के लिए घर की दीवारों को हल्दी के रंग अर्थात पीले रंग से रंगवाये।

● दक्षिण-पश्चिम दिशा शयन कक्ष के लिए सर्वोत्तम होती है। इस दिशा में शयनकक्ष बनवाने से शादी में हो रही देरी दूर होती है।

● वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के दक्षिण पश्चिम दिशा में भूमिगत तालाब अथवा टैंक नहीं बनवाना चाहिए। अन्यथा यह विवाह में बाधा का कारण बनता है।

● वास्तु शास्त्र के अनुसार शयनकक्ष में एक से अधिक दरवाजे नहीं लगाने चाहिए यह भी विवाह में बाधा का एक मुख्य कारण होता है।

● कुंवारे लड़के लड़कियों को अपने बिस्तर के नीचे भूलकर भी लोहे से बना भारी सामान नहीं रखना चाहिए। यह विवाह में देरी होने का एक मुख्य कारक होता है। खासतौर से लोहे का बना नया सामान तो बिस्तर के नीचे भूल कर भी नहीं रखना चाहिए।

● कुंवारे लड़के लड़कियों को काले रंग के वस्त्र के उपयोग से बचना चाहिए। काला रंग विवाह में हो रही देरी का कारण बन सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here