10
शास्त्रों में बताया गया है कि संकटमोचन हनुमान जी आज कलयुग के समय में भी मौजूद है | वे आज भी पृथ्वी पर ही विराजमान है |  ऐसा बताया जाता है कि हनुमान जी अपने भक्तो की पुकार जरूर सुनते है और उनके जीवन से कष्टों को दूर करते है | जरूरत होती है तो केवल सच्ची श्रद्धा की | आज के समय में जीवन में कई तरह की समस्याएं हर दिन आती है | जिनसे मनुष्य को जूझना पड़ता है | ऐसे में हर कोई भगवान को प्रसन्न कर उनकी कृपा प्राप्त करना चाहता है |
कई लोग हनुमान जी के परम भक्त होते है और हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए वे कई तरह के उपाय करते है | ऐसे में आज के दिन हम आपको हनुमान जी पूजा अर्चना से जुडी कुछ जरुरी बाते बताने जा रहे है | जिनसे आपकी मनोकामना शीघ्र पूरी होगी और आप पर हनुमान जी की कृपा बनेगी |
1. आपने हनुमान जी की कई प्रकार की प्रतिमाये और तस्वीरें देखी होगी | जिनमे हनुमान जी अलग अलग मुद्राओ में होते है | ऐसा बताया जाता है कि प्रत्येक तस्वीर या प्रतिमा का अपना महत्व होता है | ये अलग अलग मनोरथ सिद्ध करती है | ऐसे में यदि आप अपने घर में सुख शांति की कामना करते है, तो आपको उत्तरमुखी और दक्षिणमुखी हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए | ये घर में सुख शांति के साथ साथ आपको मानसिक शांति भी प्रदान करेगी |
2. यदि आप चाहते है कि माता पिता और भाई बहनो से आपके संबंध सदा प्रेममय बने रहे | कभी आपके रिश्ते में दरार नहीं आये, तो आप हनुमान जी की उस प्रतिमा या तस्वीर की पूजा करे | जिसमे हनुमान जी प्रभु श्रीराम, लक्ष्मण जी और माता सीता को नमन कर रहे हो |
3. यदि आप मान सम्मान और उन्नति में वृद्धि करना चाहते है, तो आप हनुमान जी की उस प्रतिमा की पूजा करे | जिसमे हनुमान जी सूर्य देव की उपासना कर रहे हो | इससे आपके घर से नकारात्मकता दूर होगी, साथ ही अधूरे पड़े काम भी शीघ्र ही पुरे हो जायेंगे | इस बात का ख़ास ख्याल रखे कि आपको हनुमान जी की पूजा अर्चना रोजाना करनी होगी |
4. हनुमान जी की विभिन्न मुद्रा की तस्वीर की पूजा करना आपकी हर मनोकामना की पूर्ति करने की क्षमता रखती है | आप हनुमान जी की तस्वीर को पूजा स्थल में विधि पूर्वक स्थापित करे और नियमित रूप से उनकी पूजा करे | दीप जलाये और अपनी मनोकामना हनुमान जी के समक्ष रखे | इससे आपकी मनोकामनाएं शीघ्र ही पूरी होगी और आप पर हनुमान जी की कृपा बनेगी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here