पत्नी को अर्धांगनी अर्थात पति के शरीर का आधा अंग माना जाता है। हमारे कई प्राचीन ग्रंथों में पत्नी के गुण और अवगुण का ज़िक्र मिलता है। बताया जा रहा हैकि यदि पत्नी में अच्छे गुण होते हैं तो पति की किस्मत उसका काफी साथ देती है और वही यदि पत्नी में अच्छे गुण नहीं होते तो घर की सुख सम्रद्धि का नाश होने में समय नहीं लगता |हमारे शास्त्रों में ऐसा बताया गया है की घर की बहु बेटी के द्वारा किये गये कुछ शुभ कार्यों से माँ लक्ष्मी का घर में स्थिर वास होता है और उस घर में सदैव ही बरकत बनी रहती है

तो आइये जानते है कौन से है वो काम …

यह तो हम सभी जानते है की औरत हो या आदमी दोनों को ही सुबह जल्दी उठाना चाहिए और सुबह की शुरुआत बेहद अच्छे तरीके से करना चाहिए।

यदि सुबह की शुरुआत ठीक ढंग से होती है तो पूरा दिन सुखद और शांत रहता है। यही वजह है कि जब कह जाता है कि सुबह-सुबह कोई भी ऐसा काम नहीं करना चाहिए जिससे दिन की शुरुआत ही बिगड़ जाए।

सुबह उठने के साथ ही घर की महिलाओं को

सबसे पहले अपने दोनों हाँथ जोड़कर धरती माता को प्रणाम करना चाहिए उसके बाद अपने हथेलियों को देखना चाहिए|कहा जाता है की प्रातः काल में माँ लक्ष्मी धरती पर भ्रमण के लिए आती है और इस दौरान यदि हम धरती माँ की पूजा करते है तो इससे माँ लक्ष्मी की हमारे ऊपर कृपा बनती है धरती माँ की पूजा करने की बाद घर की साफ सफाई अच्छे ढंग से करना चाहिए इसके बाद स्नान आदि से निवृत्त होकर सबसे पहले तांबे के लोटे में जल भरकर पूजा घर में रख लें और अशोक के पत्तो को उस जल के अंदर रखकर पुरे घर का छिडकाव करे

और इसके साथ ही तुलसी में रोजाना

कच्चा दूध या जल अवश्य ही अर्पित करे इससे घर में हमेशा ही सकारात्मक उर्जा बनी रहेगी और धन दौलत की कभी कमी नहीं होगी | तो ये है वो काम जिन्हें यदि प्रतिदिन घर की महिलाएं करती है तो माँ लक्ष्मी उस घर में प्रवेश कर जाती है और उस घर की होकर रह जाती है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here