7

रेलवे अभी भी काफी घाटे में चल रही है। जिसे देखते हुए रेलवे स्टेशनों पर काम कर रहे 50 प्रतिशत कर्मचारियों को हटाया जाएगा। इस बारे ने जब जानकारी सफाई कर्मियों को हुई तो उन्होंने हंगामा कटाना शुरू कर दिया। उनका साफ़ कहना है रेलवे द्वारा सफाई कर्मियों की छटनी की जो बात सामने आई है इसके बाद सभी सफाई कर्मचारी काम नहीं करेंगे जब तक उन्हें यह आश्वासन नहीं मिल जाता है कि किसी भी कर्मचारी को काम से नहीं निकाला जायेगा।

रेलवे स्टेशन पर प्राइवेट एजेंसियों के जरिए स्टेशन परिसर और ट्रेनों की सफाई का काम होता है। लखनऊ, मुरादाबाद, रामपुर, बरेली जैसे सभी स्टेशनों पर एजेंसियों के जरिए ही सफाई होती है। बरेली जंक्शन पर किंग एजेंसी के 190 सफाई कर्मचारी दो शिफ्ट में काम करते हैं। भारत में कोरोना संक्रमण के बढ़ते हुए क्रम को रोकने के लिए 22 मार्च से लॉक डाउन लगा दी गया था।

जिसके बाद स्टेशनों पर सफाई तो होती रही लेकिन ट्रेनों का संचालन पूर्व की तरह हो रहा है जिसे देखते हुए रेलवे बोर्ड ने यह फैसला किया है कि अब 50 प्रतिशत कर्मचारी ही काम करेंगे। जिसकी जानकारी मिलते ही सफाई कर्मियों में काफी रोष हैं। वहीं इसे लेकर बरेली की किंग एजेंसी का कहना है कि रेलवे बोर्ड का जो भी निर्देश होगा उसके अनुसार ही काम किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here