वास्तु एक प्राचीन विज्ञान है, जो हमें बताता है कि घर, ऑफिस, व्यवसाय इत्यादि में कौन सी चीज होनी चाहिए और कौन सी नहीं. साथ हीं हमें यह भी बतलाता है कि किस चीज के लिए कौन सी दिशा सही होगी.

Puja Ghar

  • सीढ़ी के नीचे पूजा घर नहीं बनाना चाहिए और  फटे हुए चित्र, या खंडित मूर्ति पूजा घर में बिल्कुल नहीं होनी चाहिए.
  • पूजा घर और रसोई या बेडरूम एक हीं कमरे में नहीं होना चाहिए और गेस्ट रूम उत्तर-पूर्व की ओर होना चाहिए. अगर उत्तर-पूर्व में कमरा बनाना सम्भव न हो, तो उत्तर पश्चिम दिशा दूसरा सर्वश्रेष्ठ विकल्प है .
  • शौचालय और स्नानघर दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना सर्वश्रेष्ठ है और उत्तर-पूर्व में किसी का भी बेडरूम नहीं होना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here