6

एम्स के डॉ. अजय मोहन के मुताबिक, जिन लोगों में बीमारियों से लड़ने की ताकत होती है, उनमें यह बीमारी अपने आप ठीक हो जाती है, मगर जो लोग कमजोर और उम्रदराज होते हैं, उनकी जान को खतरा रहता है। पहले मई में कोरोना संक्रमितों की रिकवरी दर 50 फीसदी तक ही थी, मगर अब देश में रिकवरी दर 62.09 फीसदी हो गई है। इसका अर्थ है कि देश में हालात सुधर रहे हैं।

दूसरी तरफ यह चिंताजनक बात है कि देश में 45 वर्ष से ज्यादा उम्र वालों को कोरोना अधिक प्रभावित कर रहा है। मरने वालों में अधिकांश लोग 45 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोग हैं। हालांकि, देश में 80 वर्ष से ज्यादा उम्र के कई लोग भी कोरोना से लड़कर स्वस्थ भी हुए हैं, जो इस संक्रमण के दौर में एक सकारात्मक खबर है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, 85 प्रतिशत मरने वाले लोग 45 वर्ष से ज्यादा उम्र के हैं। कोरोना वायरस का बुरा प्रभाव अधिकतर उन लोगों पर पड़ रहा है, जो लोग पहले से किसी ना किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं, जैसे इनमें हार्ट, डायबिटीज, किडनी और फेफड़ों के मरीज आदि हैं।

45 से ज्यादा उम्र वाले लोगों में हाइपरटेंशन और डायबिटीज की बीमारी ज्यादा होती है, इसलिए उन्हें कोरोना से ज्यादा खतरा होता है। 45 से अधिक उम्र वाले लोगों की मौत की एक बड़ा कारण यह है कि इन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता पहले से ही बीमारी से लड़ती रहती है, जिससे कोरोना कि वजह से रोग प्रतिरोधक क्षमता उतनी मजबूत नहीं हो पाती है। ऐसे में कोरोना मरीज के शरीर में प्रवेश कर जरूरी अंगों को नुकसान पहुंचाने लगता है और इस वजह से व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है।

जो लोग पहले से ही किसी बीमारी से पीड़ित हैं, उन्हें खासतौर से अपना ध्यान रखना चाहिए। डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के मुताबिक, किसी भी उम्र के लोगों को अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए विटामिन सी से भरपूर डाइट लेते रहना चाहिए। इसके अतिरिक्त 10 साल से छोटे बच्चों की इम्युनिटी भी कमजोर होती है, इसलिए उन्हें भी बाहर न निकलने दें और मास्क अवश्य पहनें।

बच्चों के हाथों को भी साबुन से धुलवाते रहें। अगर घर में बड़े-बुजुर्ग हैं और आप बाहर जाते हैं तो उनसे दूरी बनाकर रखें। कोरोना वायरस से किसी भी प्रकार के लक्षण महसूस हों तो अपने आपको पूरी तरह क्वरंटाइन कर लें और घर के सभी सदस्यों से दूर रहें। अपना कोरोना वायरस का टेस्ट जरूर करवाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here