इस गांव में चलती हैं घड़िया उलटी, विवाह में भी लेते हैं उलटे फेरे :- आधुनिकता और विज्ञान के इस दौर में आज भी लोग पुराने ​रिवाजों पर जीते हैं। इसका एक उदाहरण आज भी छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में एक गांव में देखने को मिलता है। आपको यकीन न हो पर ऐसा हो रहा है, यहां के घरों में घड़ियां उलटी चलती है। मानिकपुर गांव में घरों में लगी ​घड़ियों को देखने पर वह आपको खराब लगती है, लेकिन वह सही समय बता रही है। फर्क बस इतना है कि आम घड़ियों की सुईयां बाएं से दांए ओर घूती हैं, लेकिन यहां दाए से बाएं ओर।

सुनहरा मौका,दिल्ली पुलिस में ट्रैफिक स्टॉफ के विभिन्न पदों पर वेकैंसी – 10th पास जल्द करें आवेदन

सैलरी ₹25000 सुनहरा मौका टाटा कंपनी में निकली है बंपर भर्ती

सैलरी ₹30000 सुनहरा मौका फूडपांडा में 10वीं पास के लिए निकली है 2300 पदों पर भर्ती

जिला मुख्यालय से 60 किलोमीटर दूर नेशनल हाइवे से लगे गांव मानिकपुर में लोगों की सोच अलग है। गोंड समाज में शादी होती है तो फेरे दांए से बाएं की ओर लेते है। समाज में हर खुशी की चीज दांए से बाएं ही होती है। इसलिए यहां घड़ियों के चलने की दिशा दाएं से बाएं कर दी गई है। घड़ी के डॉयल पैड को बदल दिया जाता है। इस घड़ी को नाम दिया गया है छत्तीसगढ़ बेरा।

गोंड समाज चाहता है कि यह घड़ी उनके समाज की पहचान बने। समाज के प्रमुख और गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरासिंह मरकाम बताते हैं कि ये घड़ी अब छोटे से गांव मानिकपुर तक ही सीमित नहीं है, बल्कि राजस्थान, उत्तर प्रदेश और गुजरात तक पहुंच गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here