Corona lockdown कोरोना वायरस के महामारी चारों तरफ फैल चुकी है इसके लिए सरकार अपनी पूरी ताकत लगा रही है साथी आम जनता भी कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अपनी नए-नए नीति अपना रहे हैं जिसे कोरोना वायरस से बचा जा सके जैसे सोशल डिस्टेंसिंग , सैनिटाइजर, मास्क etc

कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए पीएम नरेंद्र मोदी सोमवार को देश के सभी मुख्यमंत्रियों के साथ ऑनलाइन मीटिंग कर रहे हैं ताकि देश में कोरोनावायरस का संक्रमण कम हो सके और भारत कोरोनावायरस मुक्त राष्ट्र बन सके। इस अहम बैठक में देश के तमाम मुख्यमंत्रियों ने हिस्सा लिया लेकिन एक ऐसे राज्य के मुख्यमंत्री ने हिस्सा नहीं लिया जहां पर देश का पहला कोरोना पीड़ित मरीज मिला था।

आपको बता दें कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर रहे हैं। इस बैठक में लॉकडाउन पर आगे की रणनीति को लेकर चर्चा होनी है। लेकिन इस महाबैठक में केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन शामिल नहीं हुए हैं। उनकी ओर से राज्य के चीफ सेक्रेटरी बैठक में हिस्सा ले रहे हैं। लेकिन जब खुद मुख्यमंत्री के इस अहम बैठक में उपस्थित नहीं होने पर सवाल खड़े हुए तो केरल के मुख्यमंत्री कार्यालय से सफाई भी सामने आई।

केरल मुख्यमंत्री के कार्यालय की ओर से सफाई पेश की गई. बयान में कहा गया कि हमें कहा गया था कि पिछली दो बैठकें काफी अहम हैं, क्योंकि कोरोना को रोकने के लिए विचार करना है। लेकिन इस बार हमें कहा गया कि नॉर्थ ईस्ट और अन्य राज्यों पर फोकस रहना है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि इसलिए केरल के मुख्यमंत्री का बैठक में हिस्सा लेना अनिवार्य नहीं था। इसलिए केरल के चीफ सेक्रेटरी इस बैठक में हिस्सा ले रहे हैं। जो उचित समझा गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर से भारत में लोग डाउन की तारीख को बढ़ा सकते हैं इसकी संकेत मिलते नजर आ रहे हैं कुछ राज्य की मुख्यमंत्री पहले ही इस बात का संकेत दे चुके हैं कि 3 मई के बाद में उनके राज्य में बढ़ते कोरोना पॉजिटिव के कारण लोक डाउन को बढ़ाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here