10

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कोरोना महामारी के बीच एक बड़ी राहत भरा आदेश जारी किया है। सरकार ने कहा है कि कोई भी प्राइवेट या सरकारी हॉस्पिटल किसी भी कोरोना संक्रमित का इलाज करने से मना नहीं कर सकता। बनाए गए नियम के अनुसार सरकार इन मरीजों के खर्चे की पूरी जिम्मेदारी लेगी। मरीज को फौरन इलाज दिया जाए। पैसों को लेकर किसी भी मरीज के इलाज से लापरवाही नहीं होनी चाहिए। एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिव आए लोगों को समुचित इलाज उपलब्ध कराया जाए।

सीएम योगी ने टीम 11 के अधिकारियों के साथ हुई वर्चुअली मीटिंग में यह बात कही। उन्होंने कहा कि बीते 24 घंटों में प्रदेश में 35,614 नए कोविड संक्रमित मामले आए हैं, जबकि 25,633 इतने  लोग सही होकर डिस्चार्ज हुए हैं। प्रदेश में अब तक 7.77 लाख से अधिक लोग अब तक कोरोना महामारी से ठीक होकर घर पहुंच चुके हैं। यह सुखद स्थिति ‘दवाई भी-कड़ाई भी’ के सूत्र को प्रभावी ढंग से अमल में लाने का रिजल्ट है।

सीएम ने कहा कि डीआरडीओ के हेल्प से लखनऊ और वाराणसी में बनाए जा रहा सर्वसुविधायुक्त कोविड हॉस्पिटल जल्द से जल्द शुरू हो जाएगा। स्वास्थ्य विभाग सम्बंधित अधिकारियों से संपर्क स्थापित कर डीआरडीओ को सभी आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इन अस्पतालों के संचालन से प्रदेश के चिकित्सा संसाधन और सही होंगे।

उन्होंने कहा कि इसके लिए आईआईटी कानपुर, आआइएम लखनऊ और आईआईटी बीएचयू के सहयोग से ऑक्सीजन की ऑडिट कराने की कार्यवाही की जाए। इसी प्रकार, लखनऊ के एकेटीयू, गोरखपुर में एमएमएमयूटी, कानपुर में एचबीटीयू और प्रयागराज में एमएनआईटी से बातचीत करके ऑक्सीजन ऑडिट कार्य में सहयोग लिया जाए। इन संस्थानों को इनके समीपस्थ अलग-अलग जिले आवंटित कर ऑडिट कराया जाए। ऑक्सीजन मांग-आपूर्ति-वितरण की लाइव ट्रैकिंग कराने की व्यवस्था लागू हो गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here