पाकिस्तानी अखबार डॉन के मुताबिक, इमरान खान सरकार में अब्दल केंद्रीय वित्त मंत्री की हैसियत रखते हैं, मगर वर्तमान वे महज वित्तीय सलाहकार की भूमिका का निर्वहन कर रहे हैं। अब्दुला शेख ने कहा कि कोरोना वायरस की वजह से पाकिस्तान का राजकोषिय घाटे आशंकाएं 7.6 फीसदी थीं, लेकिन अब कोरोना वायरस के बाद ये बढ़कर 8 फ़ीसदी हो जाएगा और ये 9 फ़ीसदी तक भी जा सकता है। पाकिस्तान को कोरोना वायरस की वजह से आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है।

पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था अब ढाई फीसद संकुचित हो सकती है। इस बात की आशंका किसी और ने नहीं बल्कि आईएमएफ ने भी जाहिर की है। अब इसी अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने 6 अरब डॉलर का बैलेट पैकेज देने का एलान किया है। अर्थव्यवस्था के टैक्स आधारित राजस्व लक्ष्य को कम करने में इमरान सरकार की मदद की है। शेख ने बताया है कि पाकिस्तान इस साल 3.9 ट्रिलियन पाकिस्तानी रुपए करों से हासिल करेगा जो कि कम किए गए लक्ष्य 4.8 ट्रिलियन से भी 19 फ़ीसदी कम है। इसके इतर आईएमएफ ने  1.38 अरब डॉलर का रैपिड फाइनेंस पैकेज़ भी दिया है, ताकि कोरोना वायरस के प्रकोप के नतीजतन, जो आर्थिक समस्याएं पैदा हुई है, उसका सामना किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here