आपको बता दें कि वायरल मैसेज में इस बात का दावा किया गया था कि कोविड-19 के मद्देनजर लगाई गई रोक (प्रतिबंध) को हटाने के लिए सरकार ने 5 चरणों का एक रोडमैप तैयार किया है। सभी फेस तीन हफ्तों के लिए रिव्यू प्रक्रिया में रहेंगे। इतना ही नहीं वायरल मैसेज में इस बात का भी दावा किया गया था कि अगर स्थिति गंभीर होती है कि हटा दिए गए प्रतिबंधों को पुन: बहाल भी किया जा सकता है। वहीं इस मैसेज के गंभीरता का अंदाजा लगाते हुए स्वयं पीआईपी ने इस वायरल मैसेज की सटीकता की पैमाइश करने की कमान खुद संभाली और फिर उन्होंने इस वायरल मैसेज को फेक न्यूज करार दिया।

पीआईबी ने अपने इस मैसेज का खंडण करते हुए कहा कि, ‘यह खबर गलत है। भारत सरकार ने अभी ऐसा कोई भी रोड़मैप तैयार नहीं किया है। इसके साथ ही पीआईबी ने आसार जताते हुए कहा कि संभवत: इसे किसी अन्य देश ने तैयार किया हो, जो अभी काफी तेजी से वायरल हो रहा है। मालूम हो कि अभी कोरोना के खिलाफ जंग में देशव्यापी लॉकडाउन का एलान किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here