एक तरफ जहाँ कोरोना तबाही मचा रहा है, वहीँ कोरोना से कुछ लोग कमाई का जरिया भी ढूंढ रहे है | कोरोना से ठीक हो चुके लोगो का खून बेचा जा रहा है | ठीक हो चुके मरीजों के खून को इलाज और वैक्सीन के नाम पर डार्कनेट पर धड़ल्ले से बेचा जा रहा है | डार्कनेट पर सेलर अलग अलग देशो से खून मंगवाकर विदेशो में खून की सप्लाई कर रहे है |

इस खबर का खुलासा ऑस्ट्रेलिया नेशनल यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट में हुआ है | डेली मेल में छपी खबर के अनुसार जीवनभर के लिए कोरोना से इम्यून होने के दावे के साथ कोरोना से ठीक हो चुके लोगो का खून 10 लाख रूपये तक की कीमत में बेचा जा रहा है |
वैसे डार्कनेट पर इसके अलावा PPE किट, मास्क और टेस्ट किट भी ऊँचे दामों पर बेचा जा रहा है | ANU की रिपोर्ट के अनुसार डार्कनेट पर 12 अलग अलग बाजारों में ऐसी बिक्री हो रही है |
डार्कनेट पर दावा किया जा रहा है की दुनियाभर में काम कर रहे डॉक्टरों के जरिए इन किटो को इकठ्ठा किया गया है | जानकारी के अनुसार अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में ये सभी चीजे शिपिंग के लिए मौजूद है |
बता दे कोरोना से ठीक हो चुके मरीजों के प्लाज़्मा से दूसरे मरीजों का इलाज किया जा रहा है | लेकिन इसमें काफी खतरा है, इससे जान भी जा सकती है | इसीलिए केवल कुछ ही परिस्थितियों में इसका उपयोग किया जा रहा है |
इस रिसर्च के प्रमुख रोड ब्रॉडहर्स्ट का कहना है की ऐसी गंभीर स्थिति में ऐसे व्यापार के बढ़ने के आसार और अधिक है | ऐसे में इन सभी चीजों की कड़ी मॉनिटरिंग करने की जरूरत है | साथ ही ऐसा भी कहा जा रहा है इन चीजों की बिक्री से स्वास्थ्य को लेकर भी खतरा बना हुआ है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here