7

इस बारे में सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सीएम केजरीवाल और चैयरमैन डॉ. डीएस राणा को के बीच शाम चार बजे बैठक होगी, इस दौरान मुख्यमंत्री अस्पताल और स्वास्थ्य कर्मियों की स्थिति का जायज़ा लेंगे।  बता दें कि अब डॉक्टरों के भी कोरोना महामारी की चपेट में आने के चलते सरकार की चिंता बढ़ गई है।  दिल्ली में कोरोना के तेजी से बढ़ रहे मामले फिर से लोगों को डराने लगे हैं।  पिछले पांच दिनों के कोरोना संक्रमण के आंकड़ों पर नजर डाली जाये तो यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि दिल्ली भी अब मुंबई की रह पर चल पड़ा है।

कम नहीं हो रहा संक्रमण

दिल्ली में 4 अप्रैल को 4033, 5 अप्रैल को 3548, 6 अप्रैल को 5100, 7 अप्रैल को 5506 और 8 अप्रैल को 7437 नए मामले सामने आए हैं।  परेशान करनी वाली बात यह है कि मुंबई की तरह अब दिल्ली में भी कोविड-19 संक्रमण से मरने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है।  दिल्ली में 4 अप्रैल को 21, 5 अप्रैल को 15, 6 अप्रैल को 17, 7 अप्रैल को 20 और 8 अप्रैल को 24 लोगों की कोरोना वायरस में मौत हुई।  राज्य में कोरोना केसों को देखते हुए केजरीवाल सरकार ने यहां नाइट कर्फ्यू लगा दिया है।  बावजूद इसके कोरोना संक्रमण के आंकड़ों ने कोई कमी नहीं आ रही है।

वैक्सीन बचाव की गारंटी नहीं

बता दें कि कल गंगाराम अस्पताल के 37 डॉक्टर कोविड-19 की चपेट में आ गए।  इन सभी 37 डॉक्टर कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज ले चुके हैं।  इनमें से अस्पताल के पांच डॉक्टरों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। इन डॉक्टरों के कोरोना वायरस के चपेट में आने के बाद सिर्फ यह कहा जा सकता है वैक्सीन लगवा लेना बचाव की गारंटी नहीं है।  मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग भी जरुरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here