गाय के घी में चावल मिलाकर आहुति देने से आसपास के कीटाणु नष्‍ट हो जाते हैं। इतना ही नहीं इसका धुआं जहां तक जाता है वहां तक वायुमंडल में किसी प्रकार के कीटाणु नहीं रहते तथा पूरा क्षेत्र आणविक विकिरणों से मुक्‍त हो जाता है। इसमें शरीर में पहुंचे रेडियोधर्मी विकिरणों के दुष्‍प्रभाव को नष्‍ट करने की भी क्षमता है।

गाय के पुराने घी के अन्‍य लाभ

– गाय के घी के नियमित सेवन से बल व वीर्य बढ़ता है तथा मानसिक शक्ति मिलती है।

– इसके नियिमित सेवन से गैस व कब्‍ज़ कभी परेशान नहीं करता।

– एक गिलास दूध में एक चम्‍मच गाय का घी व मिश्री मिलाकर पीने से कमज़ोरी दूर होती है।

– गाय का आधा चम्‍मच घी खा लेने से हिचकी तुरंत रुक जाती है।

– गाय के पुराने घी की मालिश करने से हथेली व तलवों के जलन में आराम मिलता है।

– इसका नियमित सेवन स्‍तन व आंत के कैंसर से बचाता है।

– बच्‍चों की छाती व पीठ पर गाय के पुराने घी की मालिश करने से कफ की समस्‍या दूर हो जाती है।

– गाय का घी व मिश्री मिलाकर खिलाने से शराब, भांग व गांजा का नशा तुरंत उतर जाता है।

– यदि सांप ने काट लिया है तो तुरंत सौ-डेढ़ सौ ग्राम गाय का घी पिलाकर अधिक मात्रा में गुनगुना पानी पिलाना चाहिए, इससे उल्‍टी व दस्‍त शुरू हो जाएगा और विष का असर कम होने लगेगा।

Cow Ghee Benefits in Hindi

– देशी गाय का पुराना घी फफोलों के लिए लाभप्रद है, इसे फफोलों पर लगाने से आराम मिलता है।

– सिर दर्द के साथ ही शरीर में गर्मी में लगे तो गाय के घी से तलवों की मालिश करनी चाहिए। तुरंत आराम मिलेगा।

– हार्ट अटैक के मरीज़ों को चिकनाई खाने की मनाही होती है लेकिन वे भी गाय का घी खा सकते हैं, इससे हृदय मजबूत होता है।

– एक गिलास गर्म दूध में एक चम्‍मच गाय का घी मिलाकर पीने से संभोग से होने वाली कमज़ोरी दूर हो जाती है।

– गाय के घी का सेवन वजन नियंत्रित रखता है। इसके सेवन से दुबले लोगों का वज़न बढ़ता है और मोटे लोगों का वज़न कम होता है।

– आंखों की ज्‍योति बढ़ाने के लिए एक चम्मच गाय के घी में एक चम्मच बूरा व एक चौथाई चम्मच पिसी काली मिर्च डालकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय चाट कर ऊपर से गर्म मीठा दूध पीने से लाभ होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here