6

यदि हमारे घर में कमरे और चीजें सुव्यवस्थित स्थान पर होती है तो वह घर में रहने वालों के लिए काफी फायदेमंद होता है। इससे घर में खुशहाली सौभाग धन-धान्य अच्छे संबंध बने रहते हैं। इसमें जरा भी गलती हो जाती है तो हमारे लिए समस्या बन जाती है।

इसी क्रम में हमारे घर में पूजा घर का होना अति आवश्यक है लेकिन इसे हम हर जगह स्थापित नहीं कर सकते हैं इसके लिए भी सही दिशा का चुनाव करना पड़ता है, वरना कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। पूजा घर बनाते समय इन वास्तु टिप्स को जरूर ध्यान में रखें।

घर में मंदिर बनाते समय हमेशा दिशा का सही चुनाव करना चाहिए बताया गया है कि पूजा करते समय हमारा मुख पूर्व दिशा की ओर रहे। इस तरह से घर में मंदिर बनाने की दिशा का चुनाव करना चाहिए।

वास्तु के अनुसार यदि आपका घर बड़ा है तो मंदिर के लिए एकांत कमरा बनाना चाहिए। यदि आपका घर छोटा है तो एक उचित जगह पर का चुनाव कर पूजा घर बनाना चाहिए।

कई घरों मंदिर जमीन पर भी बना होता है लेकिन यह उचित नहीं है। मंदिर की ऊंचाई कितनी होनी चाहिए कि भगवान के चरणों और हमारे हृदय का स्थान बराबर होना चाहिए। यह जीवन के लिए उत्तम होता है।

वास्तु के अनुसार मंदिर की दीवारों का रंग ज्यादा चटक नहीं होना चाहिए। पूजा घर में पीला हरा या फिर हल्का गुलाबी रंग करवाना चाहिए। साथ ही पूरे मंदिर को एक ही रंग से कलर करना चाहिए।

मैं घर के पूर्वजों की फोटो नहीं रखनी चाहिए ऐसा करना शुभ होता है। भगवान के स्थान पर केवल भगवान की ही मूर्ति होनी चाहिए। फिर भी आपको दूसरी तस्वीरें रखनी है तो उसका अलग से स्टैंड रखें।

घर में भगवान का मंदिर संगमरमर से बनाना बहुत शुभ होता है यदि आप ऐसा नहीं कर सकते हैं तो लकड़ी से बना मंदिर भी रख सकते हैं।
(नोट- आलेख में दी गई जानकारी सामान्य जानकारी के आधार पर है न्यूज़इंडिया इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here