वैश्विक महामारी बन चुके कोरोनावायरस के खात्मे के लिए विश्व भर के वैज्ञानिक दिन रात एक किये हुए हैं ताकि चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोनावायरस को पूरी दुनिया से खत्म किया जा सके लेकिन अभी तक कोई खास सफलता प्राप्त नहीं हुई है जिससे दुनिया भर में 30 लाख कोरोना मरीजों का इलाज सही तरीके से हो सके हालांकि वैज्ञानिकों ने एक दावा किया है कि कोरोना वायरस को एक ऐसी दवा से 24-48 घंटे में खत्म किया जा सकता है जो पूरी दुनिया के लिए राहत की बात है।

आपको बता दें कि कोरोना के इलाज में वैज्ञानिकों ने एक नया दावा किया है। अमेरिका के नॉर्थशोर यूनिवर्सिटी हेल्थ सिस्टम के संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. नीरव शाह ने कहा है कि एंटी पैरासाइट (कीड़े मारने की) दवा इन्वर्टीमाइसिन से वायरस को दो दिन में मारा जा सकता है। शाह के मुताबकि, ये दवा सुरक्षित है और दुनियाभर में आसानी से मिल सकती है। ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न स्थित मोनाश बायोमेडिसिन डिस्कवरी इंस्टीट्यूट के डॉ. काइली वॉगस्टाफ का भी कहना है कि उन्होंने अध्ययन में पाया है कि दवा की एक डोज से वायरस का आरएनए को 48 घंटे या 24 घंटे के भीतर खत्म कर सकता है।

अब तक दुनिया भर में दो लाख मौतों का जिम्मेदार कोरोनावायरस के इस दवा के परिणाम पर और वैज्ञानिक ने भी साकारात्मक बात कही है। फ्लोरिडा के ब्रोवॉर्ड हेल्थ मेडिकल सेंटर के डॉ. जैक्स रैज्टर का कहना है कि वे पहले से ही संक्रमितों के इलाज में इस दवा का प्रयोग कर रहे हैं। दवा का असर भी दिख रहा है। इसी तरह उटाह यूनिवर्सिटी के डॉ. अमित पटेल ने शोध में कहा, फेफड़े में नुकसान वाले वेंटिलेटर पर रखे गए गंभीर मरीजों में भी इन्वर्टीमाइसिन का बेहतर परिणाम देखने को मिला। अब देखना है कि यह दवा कितना असरदार होता है अगर यह असरकारक होता है तो दुनिया भर के कोरोनावायरस पीड़ितों के लिए किसी अमृत के समान होगा जो अतिआवश्यक भी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here