लद्दाख की गलवान घाटी में हुए भारत और चीन के बीच खुनी संघर्ष की वजह से सियासत गरम है | इसकी वजह से दूसरे देश भी भारत के चीन के साथ बिगड़ते रिश्तो को लेकर चिंता जता रहे है | बता दे चीन के सैनिको के साथ हुए संघर्ष में हमारे 20 सैनिक शहीद हो गए | संघर्ष के बीच जवान सुरेंद्र सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए थे |
घायल सुरेंद्र सिंह का इलाज लद्दाख के सैनिक अस्पताल में चल रहा था | उन्हें करीब 12 घंटे बाद होश आया है, उन्होंने अपने साथ हुए पुरे घटनाक्रम को अपने परिजनों को बताया | बता दे ऐसा पहली बार है, जब किसी घायल ने चीन की साजिश बयान की है |
उन्होंने बताया कि चीनी सैनिकों ने धोखे से गलवान घाटी से निकलने वाली नदी पर अचानक भारतीय सैनिकों पर हमला कर दिया | उनके बीच करीब 4 से 5 घंटे तक नदी में ही बीच खूनी संघर्ष चलता रहा | उस समय वहां भारत के करीब दो से ढाई सौ जवान मौजूद थे, वहीँ जबकि चीन के 1000 से अधिक जवान थे |
उन्होंने बताया कि गलवान घाटी की नदी में हाड़-मांस को गला देने वाला ठंडा पानी बहता है, उसी नदी में उनकी लड़ाई चलती रही | उन्होंने बताया कि जहां यह संघर्ष हुआ वहां नदी के किनारे केवल एक आदमी निकल सके, इतनी ही जगह थी | इसलिए भारतीय सैनिकों को संभलने में बहुत परेशानी हुई अन्यथा भारतीय सैनिक किसी से कम नहीं थे |
उन्होंने कहा कि भारतीय सैनिक चीन के सैनिकों को सबक सिखा सकते थे लेकिन चीनी सैनको ने उन पर साजिश और धोखे से हमला किया | उन्होंने बताया कि 5 फ़ीट गहरे पानी में 5 घंटे तक संघर्ष करते रहे, इसी बीच उनके सिर पर चोट लगने की वजह से वे घायल हो गए | फिर उनके साथियों ने उन्हें बाहर निकला और जब उन्हें होश आया तो वे हॉस्पिटल में थे |
बता दे अब वे स्वस्थ है, उनका एक हाथ फ्रैक्चर हुआ है और सिर में 1 दर्जन से ज्यादा टाँके आये है | जानकारी के लिए बता दे सुरेंद्र सिंह राजस्थान के अलवर के नौगांवा के रहने वाले है | गलवान घाटी में हुयी घटना की वजह से उनके परिजन बहुत चिंतित थे | हालाँकि सुरेंद्र सिंह से फ़ोन पर बात होने के बाद उनके परिजनों का ढांढस बंधा है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here