10

जम्मू कश्मीर में चुनाव की सुगबुहाट के बीच पाकिस्तान बौखला गया है। विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi) ने कहा है कि वह कश्मीर के विभाजन और उसके जनसांख्यिकी बदलाव को लेकर अगर भारत सरकार कोई फैसला लेती है तो वो पाकिस्तान इसका विरोध करेगा। कुरैशी ने कहा है है कि 5 अगस्त 2019 की कार्रवाई के बाद अब भारत को कश्मीर को लेकर कोई भी अवैध कदम नहीं उठाना चाहिए। पीएमओ ने जम्मू कश्मीर के 14 बड़े नेताओं को पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की अध्यक्षता वाली एक उच्च स्तरीय बैठक शामिल होने का न्योता दिया गया है। इस खबर के सामने आने के बाद पाकिस्तान की नींद उड़ गई है।

वहीं पीएम मोदी की अध्यक्षता वाली बैठक में को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं। इस बैठक में जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव कराने का रोड मैप तैयार किया जा सकता है। 2019 में जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद पीएम की यह सभी दलों के साथ पहली सर्वदलीय बैठक होगी। गौरतलब है कि, भारत सरकार ने जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित राज्यों में विभजित कर दिया था।

पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी का कहना है कि पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 खत्म करने का विरोध किया है। इस मुद्दे को हमने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के साथ अन्य सभी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाया है। उन्होंने कहा है कि हम भारत के हर उस कदम का विरोध करेंगे, जिसमे जम्मू कश्मीर को विभाजित किया जा रहा हो। कुरैशी का कहना है कि पाकिस्तान ने भारत के संभावित कदम को लेकर सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष और संयुक्त राष्ट्र महासचिव को अवगत करा दिया है।

गौरतलब है कि 5 अगस्त 2019 को मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) से आर्टिकल 370 खत्म कर दिया था और उसे दो राज्यों में विभाजित कर दिया था। इसके बाद से राज्य में काफी सुधार देखने को मिला है और आतंकी गतिविधियों में भी कमी देखने को मिल रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here