जल्द ही महादेव का प्रिय महीना सावन आने वाला है | हिन्दू धर्म में इस माह को बहुत ही महत्वपूर्ण बताया गया है | इस माह में महादेव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है | लोग व्रत-उपवास करते है, अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए महादेव के उपाय करते है | हमारे शास्त्रों आदि में बताया गया है कि जो व्यक्ति इस माह में महादेव की पूजा अर्चना करता है, उसकी हर मनोकामना पूर्ण होती है |
इस माह में महादेव भी अपने भक्तो पर पूर्ण रूप से मेहरबान रहते है | आज हम आपको महादेव के इस पावन पर्व के आरम्भ और विशेष संयोग से जुडी जानकारी देने जा रहे है |
कब होगा आरम्भ
 
इस वर्ष सावन का पवित्र महीना 6 जुलाई 2020 से प्रारम्भ होगा और 3 अगस्त 2020 को समाप्त होगा |
बन रहा है विशेष संयोग
 
 
सावन का ये महीना इस बार अपने साथ विशेष संयोग लेकर आया है | इस बार सावन का प्रारम्भ सोमवार के साथ हो रहा है, जो की महादेव का वार है | इसके साथ ही सावन का समापन भी सोमवार के दिन ही हो रहा है | ऐसे में ये एक विशेष संयोग है, जो हर बार देखने को नहीं मिलता है |
जुडी है विशेष कथा
 
 
सावन माह का विशेष महत्व है | इससे जुडी एक कथा का भी वर्णन सुनने को मिलता है | धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जब देवता और असुर मिलकर समुन्द्र मंथन कर रहे थे | तब समुन्द्र मंथन में से हलाहल विष निकला, तब सृष्टि के कल्याण के लिए महादेव ने उस विष को अपने कंठ में धारण कर लिया | इसके बाद उनका शरीर बहुत गर्म हो गया, और महादेव इससे परेशान होने लगे | तब महादेव को इस परेशानी से निकलने के लिए इंद्रदेव ने बारिश करवाई, ताकि महादेव को शांति मिल सके | कहा जाता है कि ये ही सावन की शुरुआत थी |
सावन में पूजा के दौरान रखे इन बातो का ध्यान
 
 
शिव जी की पूजा में केतुकी के फूलो का इस्तेमाल ना करे |
तुलसी महादेव को अर्पित ना करे |
महादेव को नारियल का पानी नहीं चढ़ाना चाहिए |
महादेव को कांस्य और पीतल के बर्तन में ही जल अर्पित करे |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here