3

बता दें कि कुख्यात विकास दुबे और उसके गुर्गों की ओर से कब्जा की गई जमीनों पर तहसील और थाना दिवस में की गई शिकायतों की रिपोर्ट जिला प्रशासन ने तलब की थी। बिकरू गांव की न्याय पंचायत दिलीप नगर के बोझा, कीरतपुर, बसेन,विरोहा, भीटी, पूरा बुजुर्ग, शिवराजपुर, देवकली, कंजती, मरहमतनगर, और रामपुर सखरेज आदि गांवों में जांच कराई गई। बिल्हौर तहसील, सिंचाई विभाग, पंचायत, नगर निगम, केडीए,पीडब्ल्यूडी, हाईवे अथॉरिटी समेत अन्य विभागों ने अपनी-अपनी रिपोर्ट जिला प्रशासन को भेज दी है, जिसमें साफ कहा गया है कि विकास ने कोई जमीन कब्जा नहीं की। जांच में पाया गया कि तहसील व थाना दिवसों में विकास दुबे व उसके साथियों के खिलाफ कोई शिकायत भी नहीं आई। इस पूरे मामले की पुष्टि एडीएम फाइनेंस वीरेंद्र पांडेय ने इसकी पुष्टि की।

भूमाफिया पोर्टल पर भीं नहीं मिली शिकायत

हालंकि बिल्हौर तहसील की रिपोर्ट के अनुसार विकास दुबे की सहमति पर बिकरू गांव के तीन किसानों की करीब तीन हेक्टेयर जमीन पर कुछ लोगों ने कब्जा जरुर किया है, जिसमें गफूर खां की जमीन पर छोटे, अब्दुल जमील की जमीन पर गयादीन और रहीस की जमीन पर रामचंद्र का कब्जा है। पीड़ित सभी किसानों ने मौखिक रूप से बताया है कि विकास दुबे की सहमति से कब्जा किया था। एसआईटी को सौंपी गई रिपोर्ट के मुताबिक विकास दुबे और उसके साथियों के खिलाफ भूमाफिया पोर्टल पर भी कोई शिकायत नहीं हुई है। राजस्व विभाग की टीम ने पूरा पोर्टल खंगाला है, पर जमीन विवाद संबंधी कोई शिकायत उसके खिलाफ कहीं नहीं दर्ज की गयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here