ज्यादा फायदा माँ को होता है ब्रेस्टफीडिंग से शिशु से :- नवजात शिशु के लिए अगर कुछ अमृत है तो वह हैं मां का दूध। मां के दूध से शिशु का पेट ही नहीं भरता बल्कि इससे उसके ऑर्गेन्स भी डवलप होते हैं और उसके अंदर बीमारियों से लड़ने की शक्ति भी पैदा होती है। ब्रेस्टफीडिंग कराना शिशु के लिए भूख कम करने के साथ दवा की तरह काम करता है।  लेकिन आपको पता है शिशु से ज्यादा फायदा आपको भी होता है। तो आइए जानें कि ब्रेस्टफीडिंग से मां को किस तरह से फायदा होता है।

सुनहरा मौका,दिल्ली पुलिस में ट्रैफिक स्टॉफ के विभिन्न पदों पर वेकैंसी – 10th पास जल्द करें आवेदन

सैलरी ₹25000 सुनहरा मौका टाटा कंपनी में निकली है बंपर भर्ती

सैलरी ₹30000 सुनहरा मौका फूडपांडा में 10वीं पास के लिए निकली है 2300 पदों पर भर्ती

ब्रेस्ट कैंसर ही नहीं प्री मेनोपॉज से भी बचेंगी आप
ब्रेस्टफीडिंग कराना शिशु के लिए जितना जरूरी है उतना ही जरूरी आपके लिए भी है क्योंकि इससे आप ब्रेस्ट कैंसर ही नहीं प्री-मेनोपॉज, ओवरी कैंसर,डायबिटीज और हाइपरटेंशन जैसी जानलेवा बीमारियों से भी बच सकेंगी। इतना ही नहीं ब्रेस्टफीडिंग कराने के जादुई लाभ भी होते हैं। जाने ये क्या हैं?

हॉर्मोन्स बचाता है दिल की बीमारियों से
ब्रेस्टफीडिंग कराने से महिलाओं के अंदर एक गुड हार्मोन निकलता हे और ये हार्मोन दिल और दिल से जुड़ी बीमारियों से बचाने में कारगर है। इसलिए बच्चे को जितना हो सके आप ब्रेस्टफीडिंग कराएं।

तेजी से होता है वेट लॉस
आपको जानकर हैरानी होगी कि आप जितना ब्रेस्टफीडिंग कराएंगी आपका वेट उतना ही तेजी से कम होगा। जी हां, प्रेग्नेंसी के दौरान आपने जितना वेट बढ़ाया होता है वह ब्रेस्टफीडिंग कराते हुए अपने आप कम होता जाता है।

खुशनुमा अहसास होगा

पोस्ट प्रेग्नेंसी डिप्रेशन से बचने के लिए शिशु को ब्रेस्टफीडिंग कराना जरूरी है। जब आप शिशु को ब्रेस्टफीडिंग कराएंगी तो उसके और आपके बीच बनने वाले एक इमोशनल संबंध आपके स्ट्रेस लेवल को कम करते हैं इससे स्ट्रेस हार्मोन कार्टिसोल कम निकलता है।

आहर होता है पोषक से भरा
क्योंकि शिशु को आपको ब्रेस्टफीडिंग कराना है इसलिए आप हमेशा संतुलित और पौष्टिक भोजन ही करते हैं। इससे आपका शरीर और स्किन दोनों ही सुंदर बनते हैं।

शिशु का डायजेशन होगा बेहतर
मां का दूध शिशु आसानी से पचा लेता है लेकिन गाय या डब्बे का दूध उसे पचाने में कठिनाई होती है। इससे शिशु को गैस, कब्ज, दस्त जैसी समस्याएं होने लगती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here