भविष्यवाणी :– अरविंद केजरीवाल ने 2020 में धमाकेदार जीत के साथ यह बता दिया कि उन्होंने एक नई राजनीति को जन्म दिया है, जीत का परचम लहराने के बाद अरविंद केजरीवाल तीसरी बाहर दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं।ज्योतिषाचार्य आचार्य भूषण कौशल का कहना है कि केजरीवाल के लग्न में गुरु की महादशा चल रही है, अगस्त, 2020 में गुरु के बाद शनि की महादशा शुरू होगी।

अरविंद केजरीवाल की कुंडली मेष है और शनि मकर राशि में बैठे हुए हैं, शनि एकदम केंद्र में हैं। केंद्र में शनि के रहते हुए जनता का भरोसा जीतना आसान हो जाता है, जैसा केजरीवाल के मामले में हुआ भी है। देश में अब तक जितने भी प्रधानमंत्री बने हैं उनकी कुंडली के केंद्र में शनि था, ऐसे में केजरीवाल का राजनीति में उदय होना तय मना जा सकता है। देश के अलावा विदेशों में भी लोकप्रियता हासिल करने के योग हैं, पार्टी का नेतृत्व भी वह पहले से ज्यादा बेहतर कर पाएंगे।

दशम भाव में बैठा शनि केजरीवाल को राष्ट्रीय राजनीति में सफलता दिलाने में मदद करेगा। केजरीवाल को अपने चुनावी वादों को पूरा करने में भी ग्रहों का काफी सहयोग मिलेगा। उनकी कुंडली में नीच का मंगल यानी रोजगार का स्वामी बैठा हुआ है, इसलिए वह अपनी जीत पर भी हनुमान को याद करना नहीं भूले।

अगले 5 साल भी उन्हें मंगल हर कार्य में सफलता दिलाएगा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कुंडली वृश्चिक है। मोदी की राशि से भी शनि की साढ़े साती खत्म होने जा रही है, मोदी के एक बार फिर जनता के साथ मेल-मिलाप होने के योग बन रहे हैं।

कुल मिलाकर देखा जाए तो दोनों के लिए राजनीति में आगे बहुत ज्यादा रुकावटें देखने को नहीं मिल रही हैं। कुछ ज्योतिष आचार्यों का यह भी मानना है कि अरविंद केजरीवाल आगे चलकर कुछ ऐसा काम करेंगे जिस पर पूरे देश को गर्व होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here