6

कोरोना वायरस के मामले पूरी दुनिया में काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। संक्रमण की जांच के लिए अब तक एंटीजन और RT-PCR टेस्ट हो रहे हैं लेकिन अब वैज्ञानिकों ने बड़ा दावा करते हुए कहा है कि अब किसी व्यक्ति का पेशाब सूंघकर कुत्ते बता सकते हैं कि वो कोरोना संक्रमित है या नहीं। इसके लिए कुछ कुत्तों को विशेष ट्रेनिंग दी गई है। ये कुत्तें 96 प्रतिशत तक सही और सटीक रिपोर्ट दे रहे हैं, जिसके बाद अब आपको नाक या फिर मुंह में स्वैब टेस्ट किट की स्टिक डलवानी नहीं पड़ेगी।

कोरोना जांच के इस टेस्ट को लेकर यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवेनिया स्कूल ऑफ वेटरीनरी मेडिसिन वर्किंग डॉग सेंटर की निदेशक सिंथिया ओट्टो का कहना है कि इस विधि का प्रैक्टिकल कुत्तों से करवाना अभी थोड़ा मुश्किल है। इस पर काम शुरू होते ही जीवों पर काम कर रही संस्थाएं विरोध शुरू कर देंगी। ट्रेनिंग पूरी कर चुके इन कुत्तों की खास बात ये है कि ये किसी का भी पेशाब सूंघकर बता सकते हैं कि वो कोरोना पॉजिटिव है या नहीं।

ओट्टो का कहना है कि कुत्ते अलग-अलग खुशबू को काफी अच्छे से पहचान लेते हैं। कोरोना संक्रमण की गंध तो थूक और पसीने के सैंपल से भी आती है। यही वजह है कि दुबई एयरपोर्ट पर तैनात किये गए हैं, जो कोरोना संक्रमित व्यक्ति को पहचान कर रहे हैं। अब तक ऐसा संभव नहीं था लेकिन हमारी टीम ने 8 लेब्राडोर रिट्रीवर और 1 बेल्जियन मैलिनॉय को ट्रेनिंग दी है। जिन्हे यूनिवर्सल डिटेक्शन कंपाउंड की गंध सुंघाई गई क्योंकि इसकी गंध कहीं और मिलती नहीं है।

कुछ समय बाद जब कुत्ते इसकी गंध को पहचानने लगे। उसके बाद हमने कुत्तों को इंसान के पेशाब की गंध को पहचानने के लिए ट्रेनिंग देना शुरू की। करीब 21 दिनों की ट्रेनिंग के बाद देखा गया कि कुत्ते 96 प्रतिशत तक पेशाब की गंध सूंघकर कोरोना पॉजिटिव को पहचानने लगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here