7

यूं तो झारखंड वन प्रदेश है ! जंगलों की बहुतायत मात्रा के कारण यहाँ मच्छरों का पनपना बेहद आसान है ! झारखंड के राँची शहर से सटा एक गाँव आरा-केरम है ! यह राँची से लगभग 30 किलोमीटर दूर है ! प्रत्येक वर्ष मच्छरों के आतंक और उसके फैलाई हुई बिमारियों ने लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया था ! लोग बेहद परेशान रहा करते थे ! मच्छर उस गाँव के लिए एक अभिशाप की तरह था जिसने लोगों का जीना दुर्लभ बना दिया था ! हर वक्त लोगों को चिंता सताए रहती थी कि ना जाने मच्छर कौन सी आफत संग ले आए !

लोगों ने अपने प्रयासों से गाँव को मच्छर मुक्त कर दिया

उनलोगों ने मच्छरों को भगाने के लिए कुछ ना कुछ करने का निर्णय लिया और प्रयास शुरू कर दिया ! सबसे पहले लोगों ने अपने गाँव में साफ-सफाई पर जोर दिया ! गंदगी को पूरी तरह साफ किया गया ! इसके बाद गाँव में जितने जल स्रोत थे उन सबको ढँक दिया गया ! घरों से निकलने वाली नालियां और गाँव में बहने वाले नालों को भी ढँका गया ! गाँव में ऐसी कई जगहें थी जहाँ बरसात व अन्य कारणों से जलजमाव की स्थिति उत्पन्न होती थी ! उन जलजमाव वाले जगहों को रेत व मिट्टी से भर दिया गया ! गाँव के लोगों ने जिस कारण से मच्छर पनपते थे उन कारणों को खत्म किया व जिस जगह पर मच्छर पनपते थे उन जगहों मच्छर पनपने के प्रतिकूल कर दिया ! आरा-केरम गाँव के लोगों द्वारा की सारी कोशिशें रंग लाई और गाँव मच्छर मुक्त बन गया !

प्रधानमंत्री भी कर चुके हैं तारीफ

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी भी आरा-केरम गाँव और उसके लोगों की तारीफ की है ! मोदी जी ने अपने “मन की बात” कार्यक्रम में आरा-केरम गाँव की चर्चा की और उसकी प्रशंसा की ! मोदी जी ने इस गाँव के लोगों द्वारा किए जा रहे जल संचयन कार्य , जैविक खेती , और नशामुक्ति कार्य के लिए सामूहिक प्रयास को सराहा !

आरा-केरम गाँव के लोगों ने जिस तरह अपने गाँव में स्वच्छता स्थापित करने के लिए बेहतर कोशिश की और अपने प्रयासों से गाँव को मच्छरों से निजात दिलाई वह प्रेरणाप्रद है ! आरा-केरम गाँव के लोगों की भूरि-भूरि प्रशंसा करता है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here