16

इन फाइटर जेट को उड़ाने के लिए कुल 12 पायलटों को ट्रेनिंग दी जा चुकी है। विश्व की सबसे घातक मिसाइलों और सेमी स्‍टील्‍थ तकनीक से लैस इन विमानों के भारतीय वायुसेना में शामिल होने से देश की सामरिक शक्ति में जबरदस्त बढ़ोतरी होगी। भारत आने वाले राफेल फाइटर जेट्स में विश्व की सबसे आधुनिक हवा से हवा में मार करने वाली मीटिआर मिसाइल भी लगी होंगी। ये भारतीय राफेल विमान फ्रांस के अबूधाबी स्थित अल धाफरा स्थित हवाई अड्डे पर उतरेंगे।

अगर आप चाइनीस ब्राउज़र यूज करते थे तो आप कौन सा ब्राउज़र यूज़ करें जो हंड्रेड परसेंट भारत में बना हुआ है dowload link : https://play.google.com/store/apps/details?id=com.india.ucc

लगभग 10 घंटे की इस यात्रा के दौरान हवा में तेल भरने के लिए दो विमान उनके साथ ही रहेंगे। ये विमान रातभर रुकने के बाद फिर भारत के लिए यहाँ से रवाना होंगे। इस दौरान दो बार हवा में तेल भरा जाएगा। जिसके कारण पायलटों को हवा में तेल भरने की ट्रेनिंग दी जाएगी। यहाँ पहुंचने के बाद ये विमान अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पहुंचेंगे। भारत में राफेल के पहले बेड़े को 17 गोल्डन एरो स्क्वॉड्रन के पायलट उड़ाएंगे। इन पायलटों की ट्रेनिंग भी फ्रांस में पूरी हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here