प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 50 हजार करोड़ रुपए की लागत वाली गरीब कल्याण रोजगार अभियान का बिहार के खगड़िया से आज वीडियो कॉन्फ्रेन्स के माध्यम शुभारंभ किया। इस योजना के तहत लॉकडाउन के दौरान अपने राज्य लौटे लाखों मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा।

इस योजना के शुभारंभ के दौरान प्रधानमंत्री ने शहरों से लौटे मजदूरों से बात भी की और गरीबों के लिए चलाई जा रही सरकारी योजनाओं के हकीकत को परखा। इस दौरान उन्होंने मजदूरों से आज शुरू किए गए रोजगार अभियान के तहत मिलने वाले फायदों के बारे में बताते हुए इसके माध्यम से प्रवासी श्रमिकों को सशक्त बनाने के लक्ष्य का विवरण भी बताया।

योजना की मुख्य बिंदु

  • देश के छह राज्यों के 116 जिलों में 125 दिनों के अभियान का उद्देश्य प्रवासी श्रमिकों की सहायता के लिए मिशन के तहत काम करना है।
  • इस योजना के माध्यम से बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, झारखंड और ओडिशा के 116 जिलों को कवर किया जाएगा। इन सभी जिले में लॉकडाउन के दौरान 25 हजार से ज्यादा श्रमिक वापस लौटे हैं।
  • 50 हजार करोड़ रुपए के लागत वाले इस योजना के तहत रोजगार प्रदान करने और बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए 25 भिन्न प्रकार के कार्यों का गहन और केंद्रित कार्यान्वयन शामिल किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here