जहां भोपला रेलवे स्टेशन से गुजर रही एक गाड़ी में सवार 3 माह की बच्ची की भूख को मिटाने के लिए रेलवे सुरक्षा बल के जवान ने दूध का पैकेट बच्चे की मां तक पहुंचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इस घटनाक्रम के वीडियो को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने अपने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए कहा कि ‘एक हाथ में राइफल और एक हाथ में दूध। किस तरह भारतीय रेलवे ने उसैन बोल्ट को पछाड़ा।’ यह श्रमिक स्पेशल ट्रेन कर्नाटक के बेलगांव से उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जा रही थी। इस ट्रेन में साफिया अपनी 3 माह की बच्ची के साथ यात्रा कर रही थी।

साफिया जब गाड़ी में बैठी तो अपने बच्ची का दूध लेनी भूल गई। बच्ची दो दिन से भूखी थी। भोपाल रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ जवान इंदर सिंह यादव को साफिया ने बच्ची के लिए दूध लाने की बात कही। आरपीएफ जवान इंदर यादव से साफिया ने बच्ची के लिए दूध लाने का आग्रह किया। इंदर स्टेशन के बाहर दूध लेने गया, जब लौटा तो गाड़ी चल दी थी। इंदर उस कोच की तरफ दौड़ा जिसमें साफिया सवार थी। वह अपनी कोशिश में कामयाब रहा।

एक हाथ में राइफल और दूसरे में दूध लिए इंदर की भागते हुए तस्वीर प्लेटफॉर्म पर लगे सीसीटीवी में कैद हो गई। इंदर की यह कोशिश जरूरतमंद की मदद का संदेश देने वाली है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस घटनाक्रम के वीडियो को अपने ट्विटर पर साझा करते हुए लिखा है। ‘एक हाथ में राइफल और एक हाथ में दूध : देखिये किस तरह भारतीय रेलवे ने उसैन बोल्ट को पछाड़ा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here