पश्चिम बंगाल की राजनीति में भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस के बीच जोरदार राजनीति उठापटक चल रही है। बता दें कि भाजपा के बंगाल में “रथ यात्रा” पर तृणमूल कांग्रेस नेताओं ने विरोध किया था, मामला कोर्ट में पहूंचा जहां कलकत्ता उच्च न्यायालय की एकल बेंच ने भाजपा की रथ यात्रा के कार्यक्रम को इजाजत देने से इंकार कर दिया था। जिसके बाद भाजपा को उत्तरी बंगाल के कूच बिहार में कार्यक्रम को रद्द करना पड़ा

इसके बाद भी तृणमूल कांग्रेस और भाजपा की राजनीतिक खेल चलता रहा। शनिवार को तृणमूल कांग्रेस ने उस रैली ग्राउंड को गाय के गोबर और गंगाजल से हिंदू रीति-रिवाज से शुद्ध किया जहां एक दिन पहले भाजपा ने रैली की थी। शनिवार सुबह हजारो तृणमूल समर्थक रैली ग्राउंड पर पहुंचे और वहां बांस के डंडों से बैरिकेडिंग की। कार्यकर्ताओं ने वहां पार्टी के झंडे गाड़े और मैदान का शुद्धिकरण किया।

इस शुद्धीकरण पर तृणमूल कांग्रेस के जिला अध्यक्ष रबिंद्रनाथ घोष ने कहा, ‘हमने स्थल को केवल गाय के गोबर और गंगाजल से शुद्ध किया। इसी वजह से वहां हमारे झंडे लगे हुए थे। इस शुद्धिकरण कार्यक्रम की घोषणा ममता बनर्जी ने की थी।’ जबकि तृणमूल के नेता पंकज घोष ने कहा, ‘भाजपा ने यहां से सांप्रदायिक संदेश दिया। यह भगवान मदनमोहन की धरती है इसलिए हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार हमने इस स्थल का शुद्धिकरण किया है।’

वही इस शुद्धिकरण पर भाजपा नेता का कहना है कि ‘हमने कोई रैली नहीं की। हम वहां केवल मौजूद लोगों का धन्यवाद करने के लिए गए थे।’ तृणमूल जिला नेताओं ने घोषणा की है कि जब-जब भाजपा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here