पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के परिणाम ने बसपा सुप्रीमो मायावती को एक ऐसा संख्या बल दे दिया है जिससे वह लोकसभा चुनाव में बड़ा दांव खेल सकती है। इसकी शुरुआत विधानसभा चुनाव के तुरंत बाद हो गई है।

आपको बता दें कि पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव सभी जगहों सरकार बनाने की कवायद शुरू हो गई है। जिसमें मध्यप्रदेश में संख्या बल कांग्रेस के साथ नहीं है और नहीं सत्ता से बेदखल हो गई भारतीय जनता पार्टी के पास है लेकिन मायावती के पास ऐसा विधायकों की संख्या बल है जिससे वह सरकार का रुख अपने हिसाब से कर करती है और अपना दांव चल सकती है।

इसी के तहत बसपा प्रमुख मायावती ने मध्य प्रदेश में कांग्रेस के समर्थन का ऐलान किया है। बुधवार को मायावती ने कहा कि बीजेपी सत्ता में आने के लिए जोड़तोड़ में लगी हुई है, वह उनका ये मकसद पूरा नहीं होने दूंगी

लेकिन सबसे बड़ी बात मायावती ने यह कही है कि कांग्रेस की नीतियों से सहमति ना जताते हुए भी बसपा मध्य प्रदेश में कांग्रेस का समर्थन करेगी. अगर राजस्थान में भी कांग्रेस को समर्थन की जरूरत पड़ेगी तो वहां भी बसपा उन्हें समर्थन करेगी

आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव से पूर्व बसपा ने कांग्रेस के साथ गठबंधन करने से इंनकार कर दिया था और अपने बल पर मध्यप्रदेश और राजस्थान जैसे राज्यों में अपनी प्रत्याशी घोषित किये थे। बता दें कि मध्य प्रदेश में बसपा के दो और राजस्थान में 6 विधायक चुनकर आए हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here