भारत और चीन के बिगड़ते हालातों पर कड़ी निगरानी बनाएं है। पकिस्तान के अपने एक न्यूज़ चैनल के कार्यक्रम में बोलते हुए विदेश मंत्री महमूद कुरैशी ने कहा कि चीन की वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर विवादित लद्दाख क्षेत्र में वृद्धि की जिम्मेदारी भारत के साथ है – “तो भारत में सड़क को वहां सड़क निर्माण नहीं करना चाहिए था।”

चीन ने कहा कि दोनों पडोसी राज्यों ने 1962 में लंबे समय तक युद्ध और संघर्ष देखा है और आज भारत फिर युद्ध की राह पर चल पड़ा है। वह फिर से अतिक्रमण कर रहा है। कुरैशी ने कहा हालंकि चीन ने दोनों देशों के मध्य शुरू हुए विवाद को रणनीति के तहत हल करने की कोशिशि कि लेकिन भारत एक तरफ बातचीत करता रहा तो दूसरी तरफ एलएसी पर माहौल खराब करता रहा और अपने 20 सैनिक गंवा दिए।

इस दौरान वह कश्मीर का भी रोना रोने से नहीं चुका। उन्होंने कहा भारत एलओसी पर भी आए दिन गोलाबारी करता और भारतीय कश्मीरियों को शहीद करता है। कुरैशी बोले-भारत की आजकल अपने किसी भी पड़ोसी देश से नहीं बन रही है। इधर वह एलएसी पर चीन से उलझा है तो दूसरी तरफ नेपाल से भी उसका विवाद शुरू हो गया। नागरिकता संशोधन कर वह बंग्लादेश से भी उलझ गया है। श्रीलंका के साथ भी उसका विवाद है।

जवाब मिलेगा 

उन्होंने इन सबके लिए पीएम मोदी को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा-“यह सब नरेन्द्र मोदी के हिंदुत्व शासन का नाटक है और इसे ईमानदार जवाब मिलेगा।” आपको बताते चले कि बीते मंगलवार को पूर्वी लद्दाख में गालवान घाटी में वास्तिविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारतीय और चीन सैनिकों के बिच हिंसक झडप हो गयी, जिसमें भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए। उधर इस झड़प में चीन का भी कम नुकसान नहीं हुआ, उसके भी कम से कम 40 सैनिक मारे गए है या फिर घायल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here