10

जैसे ही वैज्ञानिकों से इस वैक्सीन को हरी झंडी मिलेगी बड़े पैमाने पर उसका उत्पादन शुरू करेंगे। उन्होंने कहा कि देश के हर नागरिक तक वैक्सीन कम से कम समय में कैसे पहुंचे, इसका खाका भी तैयार है। बता दें कि देश में 30 कंपनियां ऐसी है। जो कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में जुटी है।

जिसमें भारत बायोटेक, Indian Council of Medical Research (ICMR) और National Institute of Virology शामिल है। ये दोनों कंपनी मिलकर कोरोना की वैक्सीन बना रही है। बायोटेक, Indian Council of Medical Research (ICMR) और National Institute of Virology मिलकर Covaxin नाम की वैक्सीन बना रहे है। इस वैक्सीन को पहले चरण के ट्रायल में सफलता मिल गई है। शुरुआती नतीजों में ये वैक्सीन सुरक्षित पाई गई है।

इसके अलावा Serum Institute of India भी कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल जल्द ही शुरु करेगी। फिलहाल वैक्सीन के फेज-2 और फेज-3 का क्लीनिकल ट्रायल चल रहा है। कंपनी का दावा है कि ये वैक्सीन अगले साल तक आ जाएगी। अहमदाबाद की बड़ी दवा कंपनी Zydus Cadila (जायडस कैडिला) भी कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में जुटी है और दिल्ली की एक बायोटेक्नोलॉजी कंपनी Panacea Biotec भी कोरोना वैक्सीन के लिए काम कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here