मध्यप्रदेश के बहुमत अभी किसी के साथ नहीं है, लेकिन मध्यप्रदेश में सत्ता की चाभी बसपा सुप्रीमो मायावती के पास आ गई है। बता दें कि मध्यप्रदेश में बहुमत का आंकड़ा 116 है। रुझानों के अनुसार कांग्रेस बीजेपी से आगे चल रही है। ऐसे में अगर कांग्रेस बहुमत का आंकड़ा नहीं छू पाती है तो, बीएसपी सुप्रीमो मायावती किंगमेकर बन सकती हैं।

इन रुझानों के अनुसार 4 से 5 सीटों पर बसपा आगे चल रही है। वहीं समाजवादी पार्टी और गोंगपा एक-एक सीटों पर आगे चल रहे हैं। कांग्रेस अगर बहुमत का आंकड़ा पार कर जाती है तो, जोड़-तोड़ की राजनीति खत्म हो जाएगी। लेकिन बहुमत हासिल नहीं कर पाती है तो, त्रिशंकू विधानसभा बनने के आसार हो जाएंगे। 4 से 5 सीटें लाने वाली बीएसपी सुप्रीमो मायावती सरकार बनाने बिगाड़ने की हैसियत रखती हैं। जो लोकसभा चुनाव के मद्देनजर मायावती के लिए फायदेमंद साबित होगा।


आपको बता दें कि मध्यप्रदेश की 230 विधानसभा सीटों पर हुई वोटिंग के लिए वोटों की गिनती जारी है। अभी तक के रुझानों में 112 सीटों पर बीजेपी तो 107 सीटों पर कांग्रेस आगे चल रही है। जबकि 11 सीटों पर अन्य आगे चल रहे हैं। सुबह आठ बजे से शुरू मतगणना के बाद से ही रूझानों में लगातार उलटफेर जारी है। अब तक दो पार्टियों को 2 रुझानों में बहुमत हासिल हो चुका है। जबकि ‘अन्य’ की संख्या में बढ़त जारी है। सूत्रों की माने तो इसी कारण बीजेपी ने सरकार बनाने के लिये 7-8 ‘अन्य’ उम्मीदवारों से बात करना शुरु कर दिया है।

यहां गौर करने वाली बात यह है कि अब तक के रुझान के नतीजों में ‘अन्य’ उम्मीदवारों की संख्या दहाई के अंक पर टिक गई है। जबकि वर्ष 2013 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी व कांग्रेस के अलावा बीएसपी को 4 और केवल 3 निर्दलीय सहित कुल 7 ‘अन्य’ उम्मीदवारों को ही जीत मिली थी, जबकि इस बार अन्य उम्मीदवारों की संख्या एक दर्जन तक पहुंचने के आसार दिख रहे हैं।

ऐसी स्थिति में मध्यप्रदेश में मायावती किंगमेकर साबित हो सकती है। बता दें कि सुत्रों से खबर है कि मायावती ने भाजपा के साथ आने से इंनकार कर दिया है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने नीजी रूप से मायावती के साथ संपर्क किया था लेकिन मायावती ने बीजेपी के साथ आने से साफ तौर पर मना कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here