हमारे देश में कई धार्मिक स्थल है, प्रत्येक धार्मिक स्थल का अपना महत्व है | कई मंदिर अपने चमत्कार को लेकर भी प्रसिद्ध है, जिस वजह से इन मंदिरो से लोगो की आस्था गहरे रूप से जुडी हुयी है | वैसे तो हमारे देश में कई चमत्कारी मंदिर है, लेकिन आज हम आपको मध्यप्रदेश के एक मंदिर के बारे में बताने जा रहे है, जो अपने चमत्कार के लिए प्रसिद्ध है |
यहाँ देवी माँ एक मंदिर मौजूद है, बताया जाता है कि इस मंदिर में 2000 सालो से दिव्य ज्योति जल रही है | हम जिस मंदिर के बारे में बात कर रहे है, उसका नाम माँ हरसिद्धि मंदिर है | यह मंदिर मध्यप्रदेश के प्रमुख मंदिरो में से एक है | यहाँ विराजित देवी माँ दिन में तीन रूपों में दर्शन देती है | सुबह बचपन के रूप में, दिन में जवानी और शाम को बुढ़ापे में नजर आती है |
जानकारी के अनुसार इस मंदिर का निर्माण विक्रमादित्य के भांजे विजय सिंह ने करवाया था | इस मंदिर में हर वक़्त माता के भक्तो की भीड़ रहती है, लेकिन नवरात्र के दिनों में यहाँ जन सैलाब उमड़ता है | लोग दूर दूर से अपनी मनोकामनाएं लेकर यहाँ आते है | बताया जाता है
माता रानी का ये मंदिर मध्य प्रदेश के आगर मालवा जिले से 20 km की दूरी पर स्थित बीजा नगरी में स्थित है | इस मंदिर को लेकर बड़ी मान्यताये जुडी है | बताया जाता है कि इस मंदिर में सालो से अखंड ज्योत जल रही है | 2000 सालो से जल रही ये ज्योत आंधी में भी नहीं बुझती |
इस मंदिर को लेकर एक कथा भी प्रचलित है | जिसके अनुसार राजा विजय सिंह माता के बड़े भक्त थे | वे नित माता के दर्शन के लिए हरसिद्धि उज्जैन आते थे | तब एक बार माता ने प्रसन्न हो कर विजय सिंह को सपने में दर्शन दिए और कहा मैं तुम्हारी भक्ति से प्रसन्न हूँ, तुम मेरा बीजा नगरी में मंदिर बनवाओ, मंदिर का द्वार पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए | इसके बाद राजा ने माता के कहे अनुसार मंदिर बनवाया |
फिर पुनः माता ने राजा को दर्शन दिए और कहा कि तुमने जो द्वार पूर्व में बनवाया था, वह पश्चिम में हो गया है | इसके बाद जब राजा ने जाकर देखा तो द्वार सच में पश्चिम में था | बताया जाता है कि इसके बाद मंदिर में कई चमत्कार हुए |
आज यहाँ जो भी श्रद्धालु अपनी मनोकामना लेकर आते है वे मंदिर में गोबर से उल्टा स्वास्तिक बनाते है | फिर जब उनकी मनोकामना पूर्ण हो जाती है, तो पुनः आकर सीधा स्वास्तिक बनाते है | साथ ही माता के तीन रूपों को देखने के लिए भी भक्त बड़ी संख्या में आते है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here