मांसपेशियों में खिचाव या मोच आने की वजह से बेहद दर्द महसूस होने लगता है। इसकी वजह है लिगामेंट्स (उत्तक जो दो या उससे अधिक हड्डियों को जोड़ते हैं) क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। आम तौर से मांसपेशियों में खिचाव या मोच ज़्यादा गंभीर समस्या नहीं होते हैं, लेकिन अगर इन पर ध्यान न दिया जाए तो ये समस्याएं बढ़ भी सकती हैं। इस तरह की चोट के कई कारण हो सकते हैं जैसे व्यायाम, दुर्घटना की वजह से चोट, पैर मुड़ना, निर्जलीकरण और खनिजों की कमी जैसे कैल्शियम, पोटैशियम और मैग्नीशियम आदि।

 

छुटकारा दिलाता है प्याज

प्याज के सूजनरोधी गुणों की वजह से इसे टखने की मोच, सुन्न उँगलियों और गठिया के लिए इस्तेमाल किया जाता है। प्याज सूजन और दर्द को दूर करने में मदद करता है।

प्याज का इस्तेमाल दो तरीकों से करें –

पहला तरीका –

> सबसे पहले एक बड़ी प्याज को छोटे छोटे टुकड़ों में काट लें।

> अब इन टुकड़ों को रेशमी कपडे में रखें और फिर उस कपडे को कसके बाँध दें।

> अब उस कपडे को मोच के क्षेत्र पर दो घंटे के लिए रखे रखें।

> लक्षणों को दूर करने के लिए इस प्रक्रिया को पूरे दिन में कई बार दोहराएं।

दूसरा तरीका –

> इसके अलावा दो घंटे के लिए सबसे पहले प्याज को फ्रिज में रखे दें। 

> फिर दो घंटे बाद प्याज को निकालें और उसे छोटे छोटे टुकड़ों में काट लें।

> अब उसमे कुछ मात्रा में नमक मिलाएं।

> अब इस मिश्रण को टखने की सूजन पर लगाएं और फिर उसपर इलास्टिक बैंडेज बाँध दें।

> हर सात से आठ घंटे बाद कंप्रेस को नए कपड़े में बदलते रहें।

> इस प्रक्रिया को एक या दो दिन तक करें।

मोच ठीक करने के घरेलू नुस्खे में करे लौंग के तेल का प्रयोग

लौंग के तेल में एनेस्थेटिक गुण होते हैं जो मांसपेशियों के खिचाव के दर्द से राहत दिलाते हैं। इसके साथ ही इसके सूजनरोधी गुण दर्द और सूजन को दूर करते हैं।

लौंग के तेल का इस्तेमाल कैसे करें –

> सबसे पहले एक या दो चम्मच लौंग के तेल को लें और फिर उसे कुछ देर के लिए ठंडा होने को रख दें।

> अब इस तेल को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।

> कुछ दिनों तक इस प्रक्रिया को पूरे दिन में दो या तीन बार ज़रूर दोहराएं।

> ये प्रभावित क्षेत्र पर रक्त परिसंचरण को बढ़ाकर मांसपेशियों के दर्द को ठीक करता है।

मोच को ठीक करे इलास्टिक बैंडेज से 

आप मांसपेशियों में खिचाव या मोच के लिए इलास्टिक बैंडेज का इस्तेमाल कर सकते हैं। बैंडेज खिचाव या मोच को कम करता है जिससे सूजन और दर्द से राहत मिलती है।

इलास्टिक बैंडेज का इस्तेमाल कैसे करें –

> सबसे पहले इलास्टिक बैंडेज को बाजार से खरीदें।

> फिर प्रभावित क्षेत्र पर इस बैंडेज को धीरे धीरे बांधें। ध्यान रहे उस क्षेत्र पर बैंडेज को ज़्यादा टाइट न बांधे वरना इससे परिसंचरण रुक सकता है।

> अगर बांधने के बाद दर्द बढ़ता है तो बैंडेज को ढीला कर लें।

> उस क्षेत्र को 72 घंटे तक बांधें और तब तक जब तक सूजन पूरी तरह से चली नहीं जाती।

> ये उपाय तब और ज़्यादा प्रभावी होगा अगर आप इसे आइस थेरपी के साथ करते हैं तो। इसके साथ ही प्रभावित क्षेत्र को एलिवेटेड अवस्था में रखें जिससे रक्त परिसंचरण उस क्षेत्र तक न पहुंचे।

मोच को ठीक करने का घरेलू उपाय है वार्म कम्प्रेस

मांसपेशियों के खिचाव और मोच के लिए वार्म कंप्रेस एक अन्य प्रभावी उपाय है। वार्म कंप्रेस मांसपेशियों को आराम पहुंचाता है जिसकी मदद से मांसपेशियों की ऐठन कम होती है और लिगामेंट्स और टेंडन्स से अकड़न को भी दूर करने में मदद मिलती है। इसके साथ ही इससे धीरे धीरे सूजन कम होती चली जाती है।

वार्म कम्प्रेस का इस्तेमाल कैसे करें –

> सबसे पहले गर्म पानी में तौलिये को डुबो दें। अब तौलिये को अच्छे से निचोड़ें।

> फिर गीली और गर्म तौलिये को प्रभावित क्षेत्र पर दस मिनट तक लगाकर रखें।

> इस प्रक्रिया को पूरे दिन में दो या तीन बार ज़रूर दोहराएं।

> गर्म पानी से नहाना भी मांसपेशियों के खिचाव से राहत दिलाने में मदद करता है।

नोट – उस क्षेत्र पर कभी हीटिंग पैड का इस्तेमाल न करें इससे आपका दर्द और बढ़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here