11

कोरोना महामारी (Corona epidemic) का कहर को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार (Uttar Pradesh government) ने 12वीं की बोर्ड की परीक्षा रद्द (12th board exam canceled) कर दी है। सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) की अगुवाई में हुई बैठक यह बड़ा फैसला लिया गया है। लोकभवन में डिप्टी सीएम और माध्यमिक शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा (Dinesh Sharma) ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ कोरोना संक्रमण पर बनी टीम-9 के साथ बैठक में शामिल हुए।

बैठक 10:30 बजे शुरू हुई और 11:00 बजे समाप्त हुई। बैठक में सिर्फ 30 मिनट में ही बोर्ड परीक्षा रद्द करने का फैसला कर लिया गया। वहीं यूपी बोर्ड की हाईस्कूल की परीक्षाएं पहले ही रद्द की जा चुकी है। कोरोना संक्रमण के प्रभाव को देखते हुए सबसे पहले सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा रद्द की गई थी। उसके बाद आईसीएसई बोर्ड ने भी 12वीं की परीक्षाएं रद्द करने की घोषणा कर दी। सीएम योगी के सामने शिक्षा बोर्ड (board of Education) ने कई विकल्प भी दिए थे लेकिन सीएम ने परीक्षा रद्द करना ही सही समझा।

प्री-बोर्ड परीक्षा और 11वीं के फाइनल एग्‍जाम के मार्क्‍स के आधार पर 12वीं के छात्रों को प्रमोट किया जायेगा। ऐसा ही रिजल्ट 10वीं का भी तैयार किया गया है।इसके आलावा 10वीं या 12वीं के जो छात्र बाद में परीक्षा देना चाहेंगे, उन्हें परीक्षा देने का मौका मिलगा लेकिन फिलहाल उन्हें अभी प्रमोट किया जाएगा। यूपी बोर्ड की 12वीं की परीक्षा के लिए 26,09,501 स्टूडेंट्स पंजीकृत हैं। देश में अब तक 12 राज्यों में बोर्ड की परीक्षाएं रद्द हो चुकी हैं।

कोरोना संक्रमण (corona infection) के मामले जरूर कम हुए है लेकिन खतरा कम नहीं हुआ है, जिसे देखते देश के ज्यादातर सीएम नहीं चाहते थे कि बोर्ड की परीक्षा कराई जाये। वहीं स्टूडेंट्स पर भी महामारी के दौर पर काफी दबाव था, जिसे देखते केंद्र ने सबसे पहले 12वीं की परीक्षा रद्द की थी। इसके बाद मध्य प्रदेश, गुजरात, उत्तराखंड की सरकारें बोर्ड की परीक्षा रद्द किए जाने का फैसला किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here