सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, सीकेपी सहकारी बैंक की नेटवर्थ में भारी गिरावट आई थी। जिस वजह से आरबीआई ने बैंक के लाइसेंस को रद्द कर दिया है। बैंक में ऑपरेशनल मुनाफा होने के बाद भी नेटवर्थ में भारी गिरावट दर्ज की गई।

जिस वजह से बैंक का लाइसेंस रद्द हो गया। बता दें कि आरबीआई ने साल 2014 से ही लगातार बैंक पर प्रतिबंध की अवधि बढ़ाया है। इससे पहले 31 मार्च को भी बैंक की अवधि बढ़ाकर 31 मई तक कर दी थी लेकिन अब आरबीआई ने उसके पहले ही बैंक का लाइसेंस रद्द कर दिया है।

बता दें कि सीकेपी सहकारी बैंक (CKP Cooperative Bank Limited) का हेड ऑफिस मुंबई के दादर में है। इस बैंक को बचाने के लिए नविशकों से लेकर जमाकर्ताओं तक ने कई कोशिशें की थी। जहां एक तरफ बैंक ने ब्याज दर में कटौरी की थी और इसे 2 प्रतिशत कर दिया था। तो वही कई लोगों ने भी अपने एफडी को शेयर में निवेश किया था। जिस वजह से बैंक की हालत सुधरती हुई नजर आई थी लेकिन इसके बाद भी घाटा कम नहीं हो पाया। जिस वजह से ही अब बैंक का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here