इंडिया टुडे से बातचीत करते हुए कमलथल ने कहा, लॉकडाउन शुरु होने के बाद से स्थिति थोड़ी कठिन हुई है. लेकिन मैं 1 रुपये में इडली देने की पूरी कोशिश कर रही हूं.’ उन्होने कहा, ‘कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण कई प्रवासी मजदूर यहां पर फंस गए. इसलिए वर्तमान में ज्या लोग यहां पर खाने के लिए आ रहे हैं. ऐसे में मैं उन्हें 1 रुपये में इडली दे रही हूं, ताकि वो लोग अपना पेट भर सकें.

मालूम हो कि कमलाथल की कहानी पिछले साल सामने आई थी. पिछले साल उनकी 1 रुपये में इडली बेचे जाने की कहानी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुई थी. सोशल मीडिया यूजर्स का कहना था कि किसी की मदद करने के लिए उम्र मोहताज नहीं होती है. वहीं एक बार फिर ये महिला सुर्खियों में हैं. इनका कहना है कि आपसे जितनी मदद हो सके आप लोगों की उतनी मदद जरुर करें. इस महामारी में सभी को एकजुट होने की आवश्यकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here