8
इस समय कोरोना वायरस दुनिया में जबरदस्त तरीके से फ़ैल रहा है | दुनिया पिछले 9 महीनो से कोरोना वायरस की मार सह रही है, लेकिन अब तक वैक्सीन नहीं बन पायी है | कोरोना के मरीजों को एंटी वायरल और एंटी बायोटिक जैसी दवाये दी जा रही है |  जिनसे कई लोग ठीक भी हो रहे है | लेकिन क्या आप जानते है वैक्सीन और दवाई में क्या अंतर होता है | आज हम आपको इसी बारे में जानकारी देने जा रहे है |
वैक्सीन को टीका भी कहा जाता है | ये शरीर को बिमारियों से बचाने के लिए होती है | ये हमारे शरीर में एक एजेंट की तरह काम करती है, जो हमारे शरीर में आने वाले वायरस से लड़ती है | इससे हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है | इसे इसलिए लगाया जाता है ताकि शरीर बिमारियों से लड़ सके |
वहीँ दवाये हमारी बीमारी को ठीक करती है | ये बीमारी के लक्षण जैसे सिर दर्द, बुखार, उल्टी से राहत दिलाती है | इनसे शरीर को आराम मिलता है और धीरे धीरे बीमारी खत्म हो जाती है |
दवा एक गोली, पाउडर, क्रीम, लोशन या इंजेक्शन के रूप में होती है | ये केमिकल, हर्बल या बायोलॉजिकल उत्पाद से बनती है | वहीँ वैक्सीन इंजेक्शन या मुंह के जरिये शरीर में पहुंचाई जाती है |
अपने देखा होगा नवजात बच्चो को कुछ टीके लगते है, ये उन्हें भविष्य में बीमारियों से बचाने के लिए होते है | जबकि बीमार पड़ने पर बच्चे को दवा दी जाती है |
वैक्सीन किसी वायरस या बैक्टीरिया के जेनेटिक स्ट्रेन से बनाया जाता है | जबकि दवाये रासायनिक हर्बल या बायोलॉजिकल होती है |
वैक्सीन को रखने के लिए एक ख़ास तापमान चाहिए होता है, जबकि दवा को किसी भी तापमान पर रखा जा सकता है |
वैसे इनमे सबसे बड़ा अंतर यही है कि वैक्सीन बीमारी से बचाने के लिए होती है और दवा बीमारी होने के बाद ठीक होने के लिए होती है | ये बीमारी को खत्म करती है | वैसे ये दोनों ही चिकित्स्कीय उत्पाद होते है | इनके साइड इफेक्ट्स भी हो सकते है | ये दोनों ही बीमारी से बचा भी सकते है और उसे खत्म भी कर सकते है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here