6

वैज्ञानिकों के इस अविष्कार से स्कूलों, अस्पतालों के अलावा विमानों में कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने में मदद मिल सकती है। जर्नल ‘मैटरियल्स टूडे फिजिक्स में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार इस ‘एयर फिल्टर ने अपने करीब से गुजरने वाली हवा में एक बार में 99.8 फीसदी नोवल कोरोना वायरस को खत्म कर दिया।

अध्ययन में आगे बताया गया है कि इस उपकरण को व्यावसायिक रूप से उपलब्ध निकेल फोम को 200 डिग्री सेल्सियस तक गर्म करके बनाया गया। इसने घातक जीवाणु बैसिलस एन्थ्रेसिस के 99.9 प्रतिशत बीजाणु को समाप्त कर दिया। बैसिलस एन्थ्रेसिस से एन्थ्रेक्स बीमारी होने का खतरा होता है। यूनिवर्सिटी ऑफ ह्यूस्टन (यूएच) के अध्ययन में शामिल झिफेंग रेन ने बताया कि यह फिल्टर हवाई अड्डों और हवाई जहाजों में, कार्यालय भवनों, स्कूलों और क्रूज जहाजों में कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने में कारगर साबित हो सकता है।

उन्होंने कहा कि वायरस को फैलने से रोकने में इसकी क्षमता काफी उपयोगी साबित हो सकती है। वैज्ञानिकों के मुताबिक यह वायरस हवा में लगभग तीन घंटे तक जीवित रह सकता है तो एक ऐसा फिल्टर बनाने की सख्त जरूरत थी जो ऐसे वायरस को समाप्त कर सके। उन्होंने कहा कि निकेल फोम कई जरूरी जरूरतों को पूरा कर सकता है। अनुसंधानकर्ताओं ने कहा है कि यह छिद्रयुक्त है जिससे हवा का प्रवाह होता रहता है और विद्युत सुचालक भी है जो इसे गर्म होने देता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here