11

बताया गया कि ऐम्बुलेंस ड्राइवर ने सिर्फ छह किलोमीटर ले जाने के लिए 9200 रुपये मांगे थे। गरीब परिवार इतने पैसे देने में सक्षम नहीं था। लड़कों के पिता ने बताया कि चिकित्सकों के हस्तक्षेप के बाद, चालक 2,000 रुपये पर माना। दो भाई-जिनमें से एक नौ महीने का और दूसरा साढ़े नौ साल का है- दोनों का इंस्टिट्यूट ऑफ चाइल्ड हेल्थ (आईसीएच) में इलाज चल रहा था और शुक्रवार को दोनों में कोविड-19 की पुष्टि हुई थी।

जिसके बाद उनके पिता ने उन्हें सरकारी अस्पताल में ले जाने के लिए ऐम्बुलेंस बुलाने की कोशिश की। बच्चों के पिता ने आरोप लगाया कि चालक ने उन्हें पार्क सर्कस स्थित आईसीएच से कॉलेज स्ट्रीट इलाके में स्थित कोलकाता मेडिकल कॉलेज ऐंड अस्पताल ले जाने के लिए 9,200 रुपये मांगे। हुगली जिले के रहने वाले इस शख्स ने कहा, ‘ऐम्बुलेंस चालक ने मेरे बेटों को केएमसीएच ले जाने के लिए 9,200 रुपये मांगे जो इस अस्पताल से महज छह किलोमीटर दूर है। मैंने उसे बताया कि मैं इतना पैसा नहीं दे पाऊंगा और उससे गुहार लगाता रहा लेकिन उसने एक न सुनी।’

उसने बताया, ‘मैं अपील करता रहा लेकिन ऐम्बुलेंस ड्राइवर ने मेरे छोटे बेटे से ऑक्सीजन सपोर्ट हटा लिया और बच्चों और उनकी मां को उतरने पर मजबूर किया। मैं आईसीएच के डॉक्टरों का शुक्रगुजार हूं। उनकी वजह से मेरे बच्चे बेहतर इलाज के लिए केएमसीएच पहुंच पाए।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here