शादीशुदा कपल्स के बिच उम्र का ज़्यादा फासला होना भी है :– शादी एक ऐसा बंधन जिसमे २ इंसान ७ जन्मो में एक साथ रहने का वडा करते है और इस शादी के पवित्र रिश्ते के वजह से २ परिवार भी आपस में जुड़ जाते है और आपको बता दे के शादी का जो रिश्ता होता है बहुत ही पवित्र होता है क्युके इस रिश्ते के वजा से दो लोग एक दूसरे से प्यार करने लगते है और एक दूसरे का हर सुख दुःख में साथ रहने का वडा करते है

8वीं 10वीं 12वीं पास के लिए इन पदों पर निकली है जबरदस्त भर्ती, प्रति महीना वेतन होगा 30000 से भी ज्यादा

बेरोजगारों के लिए विभिन्न पदों पर निकली है जबरदस्त भारती आज ही करें आवेदन

सोच न मिलना किसी भी रिश्ते को खराब ही करता है अब कोई काम है जो की आप दोनों पार्टनर से जुड़ा हो। लेकिन दोनों के करने के तरीके में फ़र्क़ हो और दोनों अपने हिसाब से करना चाहते हो। लेकिन दोनों ही अपने आप को प्राथमिकता देते हैं जिससे कई बार आपको अनबन का सामना करना पड़ता है। और सोच जब तक नहीं मिलती है तब तक किसी भी रिश्ते को निभाने में आपको केवल परेशानी ही होती है।

कई बार ऐसा होता है कि अधिक गैप होने के कारण विवाहित जोड़े को एक-दूसरे को समझने में परेशानी होती है। कभी ऐसा भी होता है कि कोई ज्यादा मैच्योर होते है तो किसी में नादानी ही रहती है जिस वजह से दोनों के रिश्तों में खटास आने की संभावना बढ़ जाती है। अधिक गैपिंग की वजह से अक्सर ऐसा देखने को मिलता है कि आप समझाना कुछ चाहते है और सामने वाला कुछ और समझ लेता है। जिससे कई परेशानी उत्पन्न होती है।

अब अधिक उम्र का गैप हो तो दोनों के रहन सहन के तरीके में भी फ़र्क़ होता है। और दोनों में से कोई भी अपने लाइफस्टाइल को बदलना नहीं चाहता है। तो इसके कारण भी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है और एक दूसरे को बदलने के चक्कर में हमेशा कोई न कोई परेशानी होती ही रहती है। इसीलिए शादी के लिए दो से तीन साल का गैप होना ठीक है उससे अधिक आज के तेजी से आगे बढ़ने वाले समय में जनरेशन गैप का काम करता है।

अक्सर देखा जाता है कि लोग नौकरी के इंतजार में या अन्य कारणों से लेट से शादी करते है जिस वजह से उनकी शादी अपने से काफी कम उम्र की लड़की के साथ करना पड़ती है। इस स्थिति में उनलोगो के रिश्तों में जनरेशन गैप हो जाती है जो कि उनके वैवाहिक जीवन के लिए काफी नुकसानदायक होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here