6
शुक्रवार का दिन माता पार्वती को समर्पित है | इस दिन माँ पार्वती की पूजा अर्चना से मनचाहे फल की प्राप्ति होती है | शुक्रवार के दिन की गयी माता पार्वती की पूजा विवाह में आ रही बाधा को भी दूर करती है | बताया जाता है कि जिन लोगो के विवाह में किसी प्रकार की परेशानी आ रही हो या विवाह नहीं हो पा रहा हो | तो उन्हें शुक्रवार के दिन माँ पार्वती की पुरे विधि विधान से पूजा अर्चना अवश्य करनी चाहिए |
सामग्री
 
माँ पार्वती की पूजा में आप ये सामग्री इस्तेमाल में लाये | गंगाजल, कलश, मौली, चावल, फल, दीपक, तेल, मिठाई, नारियल, सिन्दूर और पान जैसी चीजे प्रयोग में लाये |
पूजा आरम्भ करने से पहले आप गणेश जी, महादेव और पार्वती जी की मूर्ति को गंगाजल से स्वच्छ करे | इसके बाद इन मूर्तियों को पूजा के स्थान पर रख दे | इस बात का खास ख्याल रखे कि माता की मूर्ति महादेव के बांयी ओर हो |
ले संकल्प
माता की पूजा आरम्भ करने से पहले आप संकल्प ले | इसके लिए आप अपने हाथ में फूल और अक्षत ले | फिर अपना नाम, पता, दिन बोले और अपनी मनोकामना बोलते हुए | हाथ में लिए अक्षत और फूल जमीन पर छोड़ दे |
इस तरह करे पूजा
 
 
पूजा के लिए आप सबसे पहले कलश में नारियल रखे और फिर इसे पूजा के स्थान पर स्थापित करे | इसके बाद गणेश जी का नाम लेते हुए उन्हें मौली, पान के पत्ते, फूल, चावल, सिन्दूर, मिठाई और फल अर्पित करे | इसी तरह आप महादेव और माँ पार्वती को भी ये सभी सामग्री अर्पित करे | पूजा के दौरान आप इन मंत्रो ॐ पार्वत्यै नमः और ॐ गौर्ये नमः का जाप करे | इन मंत्रो का जाप आप 51 – 51 बार करे | इसके बाद माता की आरती करे और उन्हें आशीर्वाद की कामना करे |
बता दे यदि आप चाहे तो शुक्रवार के दिन माता के पूजन के बाद सुहागन महिलाओ को शृंगार का सामान दे सकते है | बताया जाता है कि सुहागिन महिलाओ को श्रृंगार का सामान उपहार स्वरूप प्रदान करने से माता प्रसन्न होती है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here