6

एक माह में यूपी की आर्थिक स्थिति पहले जैसी हो जाएगी। इस दौरान उन्होंने  कहा कि कोरोना संक्रमण से जुड़ी चुनौतियों से निपटने के लिए हम लोगों ने टीम के रूप में काम किया। मंत्रियों ने नीतियां बनाईं। अफसरों ने उन नीतियों को अच्छे से लागू किया। कोरोना वॉरियर्स ने बेहतरीन काम किया। यही कारण है कि सरकार को लॉकडाउन व अनलॉक की चुनौतियों से निपटने में कामयाबी मिली। अब इस पर विभिन्न संस्थान केस स्टडी करना चाह रहे हैं। मुख्यमंत्री ने यह बात आईआईटी एल्यूमिनी फार इंडिया फाउंडेशन के ई-कॉन्क्लेव में कही। उन्होंने कहा कि जून महीने में जहां 60 प्रतिशत वसूली हुई है।

वहीं इस महीने 80 प्रतिशत वसूली की उम्मीद है। एक महीने में हम लोग लॉकडाउन से पहले वाली स्थिति में आ जाएंगे। सीएम ने कहा कि हमने टीम 11 के तहत वरिष्ठ अधिकारियों की टीम बनाई और हर 12 घंटे में जिलों की रिपोर्ट मेरे पास आ जाती है। हमने तकनीक का भरपूर इस्तेमाल किया। मुख्यमंत्री ने बताया कि जब तक कोविड 19 की वैक्सीन नहीं बनती तब तक बचाव ही एकमात्र उपाय है। लॉकडाउन के बाद कुछ काम हमने शुरू कर दिए हैं। असीमित समय तक लॉकडाउन नहीं किया जा सकता। संक्रमण रोकने व औद्योगिक गतिविधियों को चालू रखने का काम एक साथ किया।

हमने 119 चीनी मिलें चालू रखीं। रिकार्ड चीनी का उत्पादन हुआ। ढाई हजार कोल्ड स्टोरेज चलवाए। इतनी बड़ी तादाद में श्रमिकों को भोजन के पैकेट देने, भरण पोषण भत्ता, पेंशन व रोजगार देने जैसे काम से लोगों को हैरत होती है। साथ ही कोटा से साढ़े बारह हजार बच्चों को सुरक्षित उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड पहुंचाने का काम किया गया। आईआईटी की ओर से सरकार को कौशल विकास प्रशिक्षण के क्षेत्र में सहयोग का वायदा किया गया।  वहीं इस महीने 80 प्रतिशत वसूली की उम्मीद है। एक महीने में हम लोग लॉकडाउन से पहले वाली स्थिति में आ जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here