6

भारत-चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में तनाव लगभग खत्म हो चुका है लेकिन अमेरिकी सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने दावा किया है कि एलएसी पर चीनी सेना अभी पूरी तरह से पीछे नहीं हटी है। ऐसे कई क्षेत्रों में चीनी सेना मौजूद है, जहां उसने तनाव के समय कब्जा कर लिया था। कांग्रेस की सुनवाई के दौरान यूएस इंडो-पैसिफिक कमांड के कमांडर एडमिरल फिलिप्स डेविडसन ने सीनेट की ‘आर्म्ड सर्विसेज कमेटी’ के मेंबर्स को इसकी जानकारी दी। डेविडसन ने इस दौरान बताया कि चीनी सेना (पीएलए) भारत के साथ संघर्ष के शुरुआती समय में कब्जा किए गए क्षेत्रों से अभी भी पीछे नहीं हटी है।

यही वजह यही कि भारत और चीन के बीच अभी तनाव बना हुआ है। अमेरिका में सीनेट की सुनवाई के दौरान एडमिरल फिलिप्स डेविडसन ने कहा कि भारत की अमेरिका ने समय-समय पर सीमा की स्थिति और बेहद सर्द मौसम के लिए कपड़े और अन्य जरुरी उपकरण देकर मदद की है। डेविडसन ने बताया कि पूरे क्षेत्र में अपना बढ़ाने के लिए चीन ने आक्रामक सैन्य रुख अपनाया हुआ है। उसकी एक मंशा है कि क्षेत्र में अपना प्रभाव बनाकर अपना विस्तार करना। पश्चिमी सीमा पर चीन की विस्तारवादी महत्वाकांक्षाएं साफ़ देखने को मिल रही है।

यहां भारतीय सेना के साथ उसका गतिरोध जारी है। पिछले करीब दस माह से भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में पांगोंग झील के आस पास से दोनों ही देशों की सेनाएं पीछे हट गयी हैं। तो वहीं देमचोक और देपसांग मैदानों में और गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र चल रहा है विवाद अभी खत्म नहीं हुआ है लेकिन पैंगोंग सो क्षेत्र चल रहा विवाद खत्म होने से दोनों ही देशों में राहत की सांस ली है। वरना एक समय ऐसा आ गया था कि सीमा पर दोनों ही देश युद्ध के लिए तैयार हो चुके थे, जिससे पूरे विश्व की सांसे थम गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here