3

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में नक्सलियों ने दो पुलिस के जवानों की हत्या कर दी है। जिन पुलिस कर्मचारियों की हत्या की गयी है वो भेज्जी थाने में तैनात थे और सिर्फ थाने से 500 मीटर दूर ही उनकी हत्या की गई है। इन जवानों की हत्या धारदार हथियार से गला रेत कर की गई है। मिल रही जानकारी के अनुसार जवान बाइक से कहीं जा रहे थे। उन्हें रास्ते में रोककर उनकी हत्या कर दी गई। जहां उनकी हत्या हुई है, उससे कुछ ही दूरी पर पुलिस कैंप भी है। इन जवानों का नाम पुनेम हड़मा और धनीराम कश्यप है। जवानों की हत्या को लेकर फिलहाल गांव वाले कुछ भी कहने को तैयार नहीं हैं। मामले को लेकर एसपी केएल ध्रुव का कहना है कि घटना की जांच चल रही है। पिछले 23 दिनों नक्सलियों का सुरक्षाबलों पर ये तीसरा बड़ा हमला है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जवानों की हत्या के पीछे नक्सलियों की स्मॉल एक्शन टीम हो सकती है। ये टीम उन पुलिस वालों पर नजर रखती है। जो कैंप बाहर निकलते हैं। ये नक्सली गांव वालों के बीच छुपकर रहते हैं कि इनकी पहचान करना काफी मुश्किल है। इन्हे जैसे ही मौका मिलता है, ये सुरक्षाबलों के जवानों पर हमला देते हैं। जवानों की जहां हत्या हुई है, वहां अक्सर पुलिस वाले शराब पीने के लिए जाते हैं। या फिर वो बाजार और अस्पताल से सम्बंधित किसी काम के लिए जाते हैं।

पुलिस के जवानों की हत्या के बारे में जैसे ही सुकमा पुलिस को जानकारी मिली वो मौके पर पहुंच गई। दोनों जवान सड़क के बीच में पड़े हुए थे और गर्दन खून निकल रहा था। जब तक पुलिस मौके पर पहुंची थी तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी। फ़िलहाल इस हत्या के पीछे किसका हाथ है। इस बारे में कोई जानकारी पुलिस के पास नहीं है और न ही नक्सलियों ने इसकी जिम्मेदारी ली है। गौरतलब है कि 3 अप्रैल को नक्सलियों के हमले में सुरक्षाबलों के 22 जवान शहीद हुए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here