11

ज्ञात हो कि अजवाइन की पत्तियों में एंटी बैक्टीरियल एंटी फंगल गुण पाए जाते हैं.इसमें प्रोटीन ,फैट ,फाइबर के गुण उचित मात्रा में पाए जाते हैं. यदि आप तुलसी की पत्तियों के जैसे ही अजवाइन के पतियों को भी कच्चा चला लेते हैं या इसकी चाय बनाकर पी सकते हैं. तो आपके लिए यह बहुत ही फायदेमंद होगी.

बदबू को करें दूर

अगर आप की सांस लेने में बदबू से परेशान है तो अजवाइन की पत्तियों का सेवन कर इस दिक्कत को दूर किया जा सकता है. माउथ फ्रेशनर के जैसे ही इसकी पत्तियां काम करती हैं. रोज 2 से 3 पत्तियों का सेवन करें. इससे मसूड़े मजबूत होंगे और सांस की बदबू से पैदा हो रहे हानिकारक बैक्टीरिया को भी ये पत्तियां दूर कर देंगी.

सर्दी-जुकाम में आराम

सर्दी जुकाम की अगर दिक्कत हो तो अजवाइन की पत्तियों का सेवन करना सही रहेगा. यदि आपको कोल्ड है तो इसकी पत्तियों से बना काढ़ा पी लें . इससे मौसमी बीमारियों को ठीक करने में सहायता मिलती है. अजवाइन की पत्तियों का काढ़ा बनाने के लिए 10 से 12 पत्तियों को बढ़िया से धो लें फिर1 गिलास पानी में उबाल लें. जब पानी तीन चौथाई बचें तो, तो इसे छान लें. इसे ठंडा कर लें और शहद डालकर पी लें. इसके अतिरिक्त अजवाइन की पत्तियों का रस निकालकर इसे शहद के साथ भी खाने का भी विकल्प हैं.

पेट दर्द होगा दूर

पेट दर्द की दिक्कत अगर होती है, तो अजवाइन की पत्तियों का सेवन आपके लिये फायदेमंद होगा . पेट दर्द और गैस की दिक्कत है तो अजवाइन की पत्तियों को चबाकर खा लें. इससे भूख बढ़ाने में भी सहायता मिलती है.

आर्थराइटिस

जिन लोगों को आर्थराइटिस है वो अजवाइन की पत्तियों का सेवन करें, सर्दी के मौसम में इसके सेवन से आपको बहुत से फायदे मिलेंगे. अजवाइन की प​त्तियों में एंटी इंफ्लामेट्री गुण पाये जाते हैं इससे दर्द और सूजन में आराम मिलती है. आर्थराइटिस की दिक्कत में अजवाइन की पत्तियों को पीसकर दर्द की जगह पर लगाएं. अजवाइन की पत्तियों का पानी भी आप पी सकते हैं.

इम्यून सिस्टम को करे मजबूत

अजवाइन की पत्तियों में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीवायरल के गुण होते हैं. इससे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है . अजवाइन की पत्तियों में मौजूद थाइमोल के खतरनाक रोगाणुओं और इंफेक्शंस को ये दूर रखती है. अजवाइन की पत्तियों को चबाकर खाएं या फिर इसको पानी में उबालकर पी सकते हैं. इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है .

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले चिकित्सीय सलाह जरूर लें. Livejagran इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here