11
सभी त्यौहारो से जुड़े व्रतों में हरतालिका तीज के व्रत को बेहद कठिन माना जाता है | भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हरतालिका तीज का त्यौहार मनाया जाता है | इस वर्ष ये त्यौहार 21 अगस्त 2020 को मनाया जायेगा | इस दिन महिलाये निर्जला व्रत रखती है और अपने सौभाग्य और दाम्पत्य जीवन में सुख शांति की कामना करती है |
ऐसा माना जाता है कि इस दिन व्रत रखने और पुरे विधि विधान से माता पार्वती और महादेव की पूजा अर्चना की जाए तो दाम्पत्य जीवन में खुशहाली आती है | ऐसे में आज हम आपको हरतालिका तीज से जुड़े पूजन और अन्य जरुरी जानकारी देने जा रहे है |
इस तरह करे पूजा
 
 
हरतालिका का व्रत कर रही महिलाये सबसे पहले बालू रेत से महादेव, माँ पार्वती और गणेश जी की प्रतिमाये बनाये | इसके पश्चात् इन प्रतिमाओं को एक चौकी पर स्थापित करे | आप चाहे तो माँ पार्वती और महादेव की तस्वीर भी स्थापित कर सकते है |
अब आप चौकी पर चावलों से अष्टदल कमल बनाये और उस पर कलश स्थापित करे |
इस कलश में आप जल, अक्षत, सुपारी और सिक्का डाले | अब सबसे ऊपर आम के पत्ते रखे |
अब इसके पश्चात् आप गणेश जी, माँ पार्वती और महादेव को कुमकुम और चन्दन का तिलक लगाए | इसके बाद आप उन्हें सफ़ेद फूल अर्पित करे |
अब आप माता पार्वती को पीले चावल अर्पित करे, महादेव को सफ़ेद चावल अर्पित करे | इसके पश्चात् माँ पार्वती को कलावा व श्रृंगार अर्पित करे और महादेव व गणेश जी को अर्पित करे |
इसके बाद आप हरतालिका तीज की कथा का पाठ करे और महादेव, गणेश जी और माँ पार्वती को मिठाई का भोग लगाए |
इन बातो का रखे विशेष ध्यान
  • हरतालिका का व्रत करने वाली महिला को हर साल ये व्रत करना होगा | यदि व्रत छोड़ना चाहती है, तो उद्यापन के पश्चात् ये व्रत किसी और को दे सकती है |
  • शिव पार्वती की पूजा में किसी प्रकार की गलती ना करे |
  • हरतालिका तीज की रात जागरण किया जाना चाहिए |
  • माता पार्वती को श्रंगार और महादेव को धोती और अंगोछा अर्पित करे | बाद में इन्हे आप किसी मंदिर के पुजारी को दान कर दे |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here